90 प्रतिशत आबादी विटामिन डी की समस्या से परेशान

डायबीटीज से परेशान ज्यादातर मरीजों में विटामिन डी की कमी देखने को मिली है। मुंबई सहित देश के कई शहरों में डायबीटीज को लेकर हुई एक स्टडी के अनुसार 84.2 प्रतिशत डायबीटीज टाइप 2 और 82.6 प्रतिशत हाइपरटेंशन मरीजों में विटामिन डी की कमी पाई गई है। विशेषज्ञों के अनुसार, देश की 90 प्रतिशत आबादी विटामिन डी की समस्या से परेशान है।

स्टडी करने वाले मुंबई के डॉ. पी.जी. तलवलकर ने कहा कि देश में अब तक डायबीटीज और विटामिन डी की कमी को लेकर कोई स्टडी नहीं हुई थी। दोनों के बीच के संबंध को समझने के लिए हमने एक स्टडी की। स्टडी में हमने डायबीटीज और विटामिन डी के बीच संबंध पाया है।

स्टडी में शामिल डॉक्टरों के अनुसार, शरीर में विटामिन डी की कमी होने के कारण हड्डी से जुड़ी कई तरह की गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। डॉ. तलवलकर ने कहा कि 2011 में देश में 30 मिलियन डायबीटीज के मरीज थे, जो बढ़कर 73 मिलियन से भी अधिक हो चुके हैं।

हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. बी. एस. राजपूत ने कहा कि विटामिन डी और डायबीटीज को लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कुछ स्टडी हुई हैं, जिसकी शुरुआती रिपोर्ट्स दर्शाती हैं कि विटामिन डी की कमी के कारण टाइप 2 डायबीटीज होने की संभावना अधिक होती है। मुंबई जैसे शहर में विटामिन डी की समस्या और भी अधिक है। ज्यादातर समय ऑफिस में रहने और सुबह के वक्त धूप न लेने के कारण आए दिन विटामिन डी की कमी और बढ़ रही है। ऐसे में लोगों को अधिक से अधिक दूध से बने उत्पाद खाने के साथ ही हरी सब्जियां आदि का सेवन करना चाहिए।

Spread the love

Written by 

Related Posts

Leave a Comment

seventeen + 19 =

WhatsApp chat