🐏मेष राशि वाले भावना में बहकर कोई निर्णय न लें। वरिष्ठजनों की सलाह जरूर लें। अन्य का राशिफ़ल…

आचार्य रमेश चन्द्र तिवारी धानिवबांग नालासोपारा पालघर महाराष्ट्र 🌸🙏
सम्पर्क सूत्र – 9518782511
🙏🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🙏
🙏🌸🙏 अथ पंचांगम् 🙏🌸🙏
🙏ll जय श्री राधे ll*🙏
🙏🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🙏

दिनाँक -: 24/04/2020,शुक्रवार
प्रतिपदा, शुक्ल पक्ष
वैशाख
“””””””””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

तिथि ——–प्रतिपदा 10:00:40 तक
पक्ष —————————शुक्ल
नक्षत्र ———भरणी 18:38:05
योग ——-आयुष्मान 23:30:28
करण ————भाव 10:00:40
करण ———-बालव 22:58:05
वार ————————-शुक्रवार
माह ————————- वैशाख
चन्द्र राशि ——–मेष 25:14:21
चन्द्र राशि ———————वृषभ
सूर्य राशि ———————–मेष
रितु —————————-वसंत
सायन ————————–ग्रीष्म
आयन ———————उत्तरायण
संवत्सर ———————–शार्वरी
संवत्सर (उत्तर) ————-प्रमादी
विक्रम संवत —————-2077
विक्रम संवत (कर्तक)——2076
शाका संवत —————-1942

मुम्बई
सूर्योदय —————–06:15:11
सूर्यास्त —————–18:57:27
दिन काल —————12:41:36
रात्री काल ————-11:17:44
चंद्रोदय —————–07:04:36
चंद्रास्त —————–20:07:26

लग्न —-मेष 10°10′ , 10°10′

सूर्य नक्षत्र —————–अश्विनी
चन्द्र नक्षत्र ——————-भरणी
नक्षत्र पाया ——————–स्वर्ण

   *🙏🌸पद, चरण🌸🙏*

ले —-भरणी 12:00:49

लो —-भरणी 18:38:05

अ —-कृत्तिका 25:14:21

🌸चोघडिया, दिन
चर 05:47 – 07:25 शुभ
लाभ 07:25 – 09:02 शुभ
अमृत 09:02 – 10:40 शुभ
काल 10:40 – 12:17 अशुभ
शुभ 12:17 – 13:55 शुभ
रोग 13:55 – 15:33 अशुभ
उद्वेग 15:33 – 17:10 अशुभ
चर 17:10 – 18:48 शुभ

🌸चोघडिया, रात
रोग 18:48 – 20:10 अशुभ
काल 20:10 – 21:32 अशुभ
लाभ 21:32 – 22:55 शुभ
उद्वेग 22:55 – 24:17* अशुभ
शुभ 24:17* – 25:39* शुभ
अमृत 25:39* – 27:02* शुभ
चर 27:02* – 28:24* शुभ
रोग 28:24* – 29:46* अशुभ

🌸दिशा शूल ज्ञान————-पश्चिम
परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा काजू खाके यात्रा कर सकते है l
इस मंत्र का उच्चारण करें-:
शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l
भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll

🌸 अग्नि वास ज्ञान
यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,
चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।
दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,
नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।। महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्
नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।

   1 + 6 + 1 =  8 ÷ 4 = 0 शेष

मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l

 *🌸शिव वास एवं फल*

1 + 1 + 5 = 7 ÷ 7 = 0 शेष

समशान वास = मृत्यु कारक

🌸भद्रा वास एवं फल

स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।
मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।

      *🌸विशेष जानकारी🌸*
  • देव दामोदर तिथि
  • महर्षि पाराशर पञ्चाङ्ग दिवस *🌸शुभ विचार🌸*

वित्तंदेहि गुणान्वितेष मतिमन्नाऽन्यत्रदेहि क्वचित् ।
प्राप्तं वारिनिधेर्जलं घनमुचां माधुर्ययुक्तं सदा
जीवाः स्थावरजड्गमाश्च सकला संजीव्य भूमण्डलं ।
भूयः पश्यतदेवकोटिगुणितंगच्छस्वमम्भोनिधिम् ।।
।।चा o नी o।।

हे विद्वान् पुरुष ! अपनी संपत्ति केवल पात्र को ही दे और दूसरो को कभी ना दे. जो जल बादल को समुद्र देता है वह बड़ा मीठा होता है. बादल वर्षा करके वह जल पृथ्वी के सभी चल अचल जीवो को देता है और फिर उसे समुद्र को लौटा देता है.

    *🌸सुभाषितानि🌸*

गीता -: भक्तियोग अo-12

वित्तंदेहि गुणान्वितेष मतिमन्नाऽन्यत्रदेहि क्वचित् ।
प्राप्तं वारिनिधेर्जलं घनमुचां माधुर्ययुक्तं सदा
जीवाः स्थावरजड्गमाश्च सकला संजीव्य भूमण्डलं ।
भूयः पश्यतदेवकोटिगुणितंगच्छस्वमम्भोनिधिम् ।।
।।चा o नी o।।

हे विद्वान् पुरुष ! अपनी संपत्ति केवल पात्र को ही दे और दूसरो को कभी ना दे. जो जल बादल को समुद्र देता है वह बड़ा मीठा होता है. बादल वर्षा करके वह जल पृथ्वी के सभी चल अचल जीवो को देता है और फिर उसे समुद्र को लौटा देता है.

*🌸व्रत पर्व विवरण🌸* 

🌸विशेष -प्रतिपदा को कुष्मांड (कुम्हड़ा पेठा) न खाये, क्योंकि यह धन का नाश करने वाला होता है ।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38)

🌸अक्षय फलदायी “अक्षय तृतीया”🌸
26 अप्रैल 2020 रविवार को अक्षय तृतीया है ।
🙏🏻वैशाख शुक्ल तृतीया की महिमा मत्स्य, स्कंद, भविष्य, नारद पुराणों व महाभारत आदि ग्रंथो में है । इस दिन किये गये पुण्यकर्म अक्षय (जिसका क्षय न हो) व अनंत फलदायी होते हैं, अत: इसे ‘अक्षय तृतीया’ कहते है । यह सर्व सौभाग्यप्रद है ।
🙏🏻यह युगादि तिथि यानी सतयुग व त्रेतायुग की प्रारम्भ तिथि है । श्रीविष्णु का नर-नारायण, हयग्रीव और परशुरामजी के रूप में अवतरण व महाभारत युद्ध का अंत इसी तिथि को हुआ था ।
👉🏻इस दिन बिना कोई शुभ मुहूर्त देखे कोई भी शुभ कार्य प्रारम्भ या सम्पन्न किया जा सकता है । जैसे – विवाह, गृह – प्रवेश या वस्त्र -आभूषण, घर, वाहन, भूखंड आदि की खरीददारी, कृषिकार्य का प्रारम्भ आदि सुख-समृद्धि प्रदायक है ।
🌸प्रात:स्नान, पूजन, हवन का महत्त्व🌸
🙏🏻इस दिन गंगा-स्नान करने से सारे तीर्थ करने का फल मिलता है । गंगाजी का सुमिरन एवं जल में आवाहन करके ब्राम्हमुहूर्त में पुण्यस्नान तो सभी कर सकते है । स्नान के पश्चात् प्रार्थना करें :
🌸 माधवे मेषगे भानौं मुरारे मधुसुदन ।
प्रात: स्नानेन में नाथ फलद: पापहा भव ॥
🙏🏻’हे मुरारे ! हे मधुसुदन ! वैशाख मास में मेष के सूर्य में हे नाथ ! इस प्रात: स्नान से मुझे फल देनेवाले हो जाओ और पापों का नाश करों ।’
👉🏻सप्तधान्य उबटन व गोझरण मिश्रित जल से स्नान पुण्यदायी है । पुष्प, धूप-दीप, चंदनम अक्षत (साबुत चावल) आदि से लक्ष्मी-नारायण का पूजन व अक्षत से हवन अक्षय फलदायी है ।
🌸जप, उपवास व दान का महत्त्व🌸
🙏🏻 इस दिन किया गया उपवास, जप, ध्यान, स्वाध्याय भी अक्षय फलदायी होता है । एक बार हल्का भोजन करके भी उपवास कर सकते है । ‘भविष्य पुराण’ में आता है कि इस दिन दिया गया दान अक्षय हो जाता है । इस दिन पानी के घड़े, पंखे, (खांड के लड्डू), पादत्राण (जूते-चप्पल), छाता, जौ, गेहूँ, चावल, गौ, वस्त्र आदि का दान पुण्यदायी है । परंतु दान सुपात्र को ही देना चाहिए ।
🌸पितृ-तर्पण का महत्त्व व विधि🌸
🙏🏻इस दिन पितृ-तर्पण करना अक्षय फलदायी है । पितरों के तृप्त होने पर घर में सुख-शांति-समृद्धि व दिव्य संताने आती है ।
🌸विधि : इस दिन तिल एवं अक्षत लेकर र्विष्णु एवं ब्रम्हाजी को तत्त्वरूप से पधारने की प्रार्थना करें । फिर पूर्वजों का मानसिक आवाहन कर उनके चरणों में तिल, अक्षत व जल अर्पित करने की भावना करते हुए धीरे से सामग्री किसी पात्र में छोड़ दें तथा भगवान दत्तात्रेय, ब्रम्हाजी व विष्णुजी से पूर्वजों की सदगति हेतु प्रार्थना करें ।
🌸आशीर्वाद पाने का दिन🌸
🙏🏻इस दिन माता-पिता, गुरुजनों की सेवा कर उनकी विशेष प्रसन्नता, संतुष्टि व आशीर्वाद प्राप्त करें । इसका फल भी अक्षय होता है ।
🌸अक्षय तृतीया का तात्त्विक संदेश🌸
🙏🏻’अक्षय’ यानी जिसका कभी नाश न हो । शरीर एवं संसार की समस्त वस्तुएँ नाशवान है, अविनाशी तो केवल परमात्मा ही है । यह दिन हमें आत्म विवेचन की प्रेरणा देता है । अक्षय आत्मतत्त्व पर दृष्टी रखने का दृष्टिकोण देता है । महापुरुषों व धर्म के प्रति हमारी श्रद्धा और परमात्म प्राप्ति का हमारा संकल्प अटूट व अक्षय हो – यही अक्षय तृतीया का संदेश मान सकते हो ।

    *🌸दैनिक राशिफल🌸*

देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके।
नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।।
विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे।
जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।।

🐏मेष
भावना में बहकर कोई निर्णय न लें। वरिष्ठजनों की सलाह जरूर लें। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में लापरवाही न करें। शारीरिक हानि हो सकती है। कोई शारीरिक तकलीफ रह सकती है। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। आय में निश्चितता रहेगी।

🐂वृष
दांपत्य जीवन में मधुरता रहेगी। भेंट व उपहार देना पड़ सकता है। कानूनी अड़चन दूर होकर लाभ की स्थिति निर्मित होगी। आय में वृद्धि होगी। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। निवेश में जल्दबाजी न करें। व्यस्तता के चलते स्वास्थ्य नरम रह सकता है।

👫मिथुन
बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। स्थायी संपत्ति के कार्य बड़ा लाभ दे सकते हैं। व्यावसायिक मतभेद दूर होंगे। शेयर मार्केट व म्युचुअल फंड इत्यादि से लाभ होगा। भाइयों का सहयोग प्राप्त होगा। आसपास प्रसन्नता का वातावरण रहेगा।

🦀कर्क
पार्टी व पिकनिक का आनंद प्राप्त होगा। रचनात्मक कार्यों में सफलता प्राप्त होगी। संगीत आदि में रुचि रहेगी। कारोबार में वृद्धि होगी। जल्दबाजी न करें। परिवार व मित्रों के साथ समय अच्छा व्यतीत होगा। नौकरी में कोई नया कार्य कर पाएंगे।

🐅सिंह
कोई बुरी सूचना प्राप्त हो सकती है। उत्साहहीनता रहेगी। वाणी पर नियंत्रण रखें। दौड़धूप अधिक रहेगी। आय में कमी हो सकती है। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। मित्रों का सहयोग मिलेगा। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा।

🙎कन्या
पिछले समय की गई मेहनत का फल अब प्राप्त होगा। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। समाजसेवा करने का मन बनेगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। शेयर मार्केट व म्युचुअल फंड इत्यादि लाभदायक रहेंगे। नौकरी में सम्मान मिलेगा। प्रमाद न करें।

⚖तुला
भूले-बिसरे साथियों से मुलाकात होगी। उत्साहवर्धक सूचना प्राप्त होगी। किसी तरह की बहस में हिस्सा न लें। नए मित्र बनेंगे। शत्रु सक्रिय रहेंगे। दुष्टजनों से सावधान रहें। पारिवारिक चिंता रहेगी। कारोबार अच्छा चलेगा। बाहर जाने का कार्यक्रम बनेगा।

🦂वृश्चिक
यात्रा लाभदायक रहेगी। शत्रु पस्त होंगे। स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। भेंट व उपहार की प्राप्ति हो सकती है। शेयर मार्केट व म्युचुअल फंड इत्यादि से लाभ होगा। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। घर-बाहर प्रसन्नता व उत्साह बने रहेंगे।

🏹धनु
वाणी पर नियंत्रण रखें। फालतू खर्च होगा। लेन-देन में सावधानी रखें। पुराना रोग परेशानी का कारण बन सकता है। किसी बड़ी उलझन से सामना हो सकता है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। कारोबार ठीक चलेगा। आय बनी रहेगी।

🐊मकर
यात्रा से लाभ होगा। रुका हुआ धन प्राप्ति के योग हैं। नया कार्य प्रारंभ हो सकता है। भाग्य का साथ मिलेगा। थकान व कमजोरी रह सकती है। कारोबार में वृद्धि होगी। पार्टनरों का सहयोग मिलेगा। घर-बाहर प्रसन्नता व उत्साह बना रहेगा।

🍯कुंभ
कार्यस्थल पर सुधार होगा। योजना फलीभूत होगी। कार्यसिद्धि से प्रसन्नता रहेगी। लोगों की सहायता करने का अवसर प्राप्त होगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। व्यापार-व्यवसाय अच्छा चलेगा। नौकरी में अधिकार बढ़ेंगे।

🐟मीन
किसी धार्मिक स्थल के दर्शन सुलभ होंगे। सत्संग का लाभ प्राप्त होगा। कानूनी अड़चन दूर होगी। समय अनुकूल है। व्यापार-व्यवसाय अच्छा चलेगा। यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। जोखिम न उठाएं। विवाद में हिस्सा न लें।

🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏

Spread the love

Written by 

Related Posts

Leave a Comment

20 − 10 =

WhatsApp chat