⚖️तुला राशि के लोगों का मित्र, संबंधी व परिवार के साथ अच्छा समय व्यतीत होगा। अन्य का आप स्वतः पढ़ें…

आचार्य रमेश चन्द्र तिवारी धानिवबांग नालासोपारा पालघर महाराष्ट्र 🌸🙏
सम्पर्क सूत्र – 9518782511
🙏🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🙏
🙏🌸🙏 अथ पंचांगम् 🙏🌸🙏
🙏ll जय श्री राधे ll*🙏
🙏🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🙏

दिनाँक -: 14/05/2020,गुरुवार
सप्तमी, कृष्ण पक्ष
ज्येष्ठ
“””””””””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

तिथि ———सप्तमी 06:50:30 तक
पक्ष —————————कृष्ण
नक्षत्र ———-श्रवण 06:21:39
योग ————–ब्रह्म 25:15:43
करण ————भाव 06:50:29
करण ———-बालव 19:31:36
वार ————————-गुरूवार
माह —————————-ज्येष्ठ
चन्द्र राशि —–मकर 19:20:52
चन्द्र राशि ——————- कुम्भ
सूर्य राशि ——- मेष 17:15:15
सूर्य राशि ———————वृषभ
रितु —————————-ग्रीष्म
आयन ——————–उत्तरायण
संवत्सर ———————–शार्वरी
संवत्सर (उत्तर) ————-प्रमादी
विक्रम संवत —————-2077
विक्रम संवत (कर्तक)——2076
शाका संवत —————-1942

मुम्बई
सूर्योदय —————–06:05:23
सूर्यास्त —————–19:04:27
दिन काल ————–12:59:03
रात्री काल ————-11:00:35
चंद्रास्त —————–12:19:10
चंद्रोदय —————–25:34:13

लग्न —-मेष 29°33′ , 29°33′

सूर्य नक्षत्र —————–कृत्तिका
चन्द्र नक्षत्र ——————-श्रवण
नक्षत्र पाया ——————–ताम्र

*🙏🌸पद, चरण🌸🙏*

खो —- श्रवण 06:21:39

गा —-धनिष्ठा 12:50:07

गी —-धनिष्ठा 19:20:52

गु —-धनिष्ठा 25:53:44

🌸 चोघडिया, दिन
शुभ 05:32 – 07:13 शुभ
रोग 07:13 – 08:54 अशुभ
उद्वेग 08:54 – 10:35 अशुभ
चर 10:35 – 12:16 शुभ
लाभ 12:16 – 13:57 शुभ
अमृत 13:57 – 15:38 शुभ
काल 15:38 – 17:18 अशुभ
शुभ 17:18 – 18:59 शुभ

🌸 चोघडिया, रात
अमृत 18:59 – 20:18 शुभ
चर 20:18 – 21:37 शुभ
रोग 21:37 – 22:56 अशुभ
काल 22:56 – 24:15* अशुभ
लाभ 24:15* – 25:34* शुभ
उद्वेग 25:34* – 26:53* अशुभ
शुभ 26:53* – 28:13* शुभ
अमृत 28:13* – 29:32* शुभ

🌸दिशा शूल ज्ञान————दक्षिण
परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा केशर खाके यात्रा कर सकते है l
इस मंत्र का उच्चारण करें-:
शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l
भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll

🌸 अग्नि वास ज्ञान

   15 + 7 + 5 + 1 =  28 ÷ 4 = 0 शेष

मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l

🌸 शिव वास एवं फल

22 + 22 + 5 = 49 ÷ 7 = 0 शेष

शमशान वास = मृत्यु कारक

*🌸विशेष जानकारी🌸*
  • कालाष्टमी
  • वृषभे सूर्य: (वृषभ संक्रान्ति) 🌸शुभ विचार🌸

यस्मिन रुष्टे भयं नास्ति तुष्टे नैव धनागमः ।
निग्रहाऽनुग्रहोनास्ति स रुष्टः किं करिष्यति ।।
।।चा o नी o।।

जिसके डाटने से सामने वाले के मन में डर नहीं पैदा होता और प्रसन्न होने के बाद जो सामने वाले को कुछ देता नहीं है. वो ना किसी की रक्षा कर सकता है ना किसी को नियंत्रित कर सकता है. ऐसा आदमी भला क्या कर सकता है.

  *🌸सुभाषितानि🌸*

गीता -: विश्वरूपदर्शनयोग अo-11

ततः स विस्मयाविष्टो हृष्टरोमा धनञ्जयः ।,
प्रणम्य शिरसा देवं कृताञ्जलिरभाषत ॥,

उसके अनंतर आश्चर्य से चकित और पुलकित शरीर अर्जुन प्रकाशमय विश्वरूप परमात्मा को श्रद्धा-भक्ति सहित सिर से प्रणाम करके हाथ जोड़कर बोले॥,14॥,

🌸 व्रत पर्व विवरण🌸

🌸विशेष – सप्तमी को ताड़ का फल खाने से रोग बढ़ता है था शरीर का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

🌸 विष्णुपदी संक्रांति🌸
➡ 14 मई 2020 गुरुवार को विष्णुपदी संक्रांति है ।
🙏🏻 पुण्यकाल: सुबह 10:53 से शाम 05:17 तक | इस में किया गया जप , ध्यान , पुण्य कर्म लाख गुना पुण्यदायी होता है – ( पद्म पुराण , सृष्टि खंड )

🌸 अहंकार, चिंता और व्यर्थ का चिंतन मिटाने का मंत्र🌸
🙏🏻 अहंकार, चिंता और व्यर्थ का 🌸चिंतन साधक की शक्ति को निगल जाते हैं | इनको मिटाने के लिए एक सुंदर मंत्र योगी गोरखनाथजी ने बताया है | इसमें कोई विधि – विधान नहीं है | रात को सोते समय इस मंत्र का जप करो, संख्या का कोई आग्रह नहीं है | इस मंत्र से आपके चित्त की चिंता, तनाव, खिंचाव, दिक्कतें जल्दी शांत हो जायेगी और साधन – भजन में बरकत आयेगी | मंत्र उच्चारण में थोडा कठिन जैसा लगेगा लेकिन याद रह जाने पर आसान हो जायेगा | बाहर के रोग तो बाहर की औषधि से मिट सकते हैं लेकिन भीतर के रोग बाहर की औषधि से नहीं मिटेंगे और इस मंत्र से टिकेंगे नहीं |
🙏🏻 हमारी जो जीवनधारा है, जीवनीशक्ति है, चित्तशक्ति है उसीको उद्देश्य करके यह मंत्र है ।
🌷 ॐ चित्तात्मिकां महाचित्तिं चित्तस्वरूपिणीं आराधयामि चित्तजान रोगान शमय शमय ठं ठं ठं स्वाहा ठं ठं ठं स्वाहा |
🙏🏻 ‘हे चित्तात्मिका, महाचित्ति, चित्तस्वरूपिणी ! मैं तेरी आराधना करता हूँ | जगत – शक्तिदात्री भगवती ! मेरे चित्त के रोगों का तू शमन कर |’
🙏🏻 ‘ठं’ बीजमंत्र है, यह बड़ा प्रभाव करता है | किसीमें लोभ, किसीमें मोह, किसीमें शराब पीने का, किसीमें अहंकार का, किसीमें शेखी बधारने का दोष होता है | चित्त में दोष भरे है इसलिए तो चिंता, भय, क्रोध, अशांति है और जन्म – मरण होता है |
🙏🏻 इसके जप से आद्यशक्ति चेतना चित्त के दोषों को दूर कर देती है, चित्त को निर्मल कर देती है | सीधे लेट गये, यह जप किया | जब तक निद्रा न आये तब तक इसका प्रयोग करें | निद्रा आने पर अपने – आप ही छूट जायेगा | रात को जप करके सोने से सुबह तुम स्वस्थ, निर्भय, प्रसन्न होकर उठोगे |
🙏🏻 भगवान के मंत्र हों और भगवान को अपना मानकर प्रीतिपूर्वक जप करें तो चित्त भगवदाकार होकर भगवदरस से पावन हो जाता है | भगवदरस के बिना नीरसता नहीं जाती |

🌸 पुण्यदायी तिथियाँ🌸
➡️ 14 मई : विष्णुपदी संक्रांति (पुण्यकाल : सुबह 10:53 से शाम 05:17 तक) (ध्यान, जप व पुण्यकर्म का लाख गुना फल )
➡️ 18 मई : अपरा एकादशी (महापापों का नाश )
➡️ 26 मई : मंगलवारी चतुर्थी (सूर्योदय से रात्रि 01:09 तक )
➡️ 28 मई : गुरुपुष्यामृत योग (सूर्योदय से सुबह 07:27 तक) (ध्यान, जप, दान, पुण्य महाफलदायी )
➡️ 02 जून : निर्जला एकादशी (व्रत से अधिक मास सहित 26 एकादशियों के व्रत का फल; स्नान, दान, जप, होम आदि अक्षय फलदायी )
➡️ 08 जून : विद्यालाभ योग (गुजरात-महाराष्ट्र छोड़कर भारतभर में )
➡️ 09 जून : मंगलवारी चतुर्थी (सूर्योदय से रात्रि 07:39)
➡️ 14 जून : षडशीति संक्रांति (पुण्यकाल : दोपहर 12:39 से सूर्यास्त ) (ध्यान, जप व पुण्यकर्म का 86000 गुना फल )
➡️ 17 जून : योगिनी एकादशी (महापापों को शांत कर महान पुण्य देनेवाला तथा 88000 ब्राह्मणों को भोजन कराने का फल प्रदान करनेवाला व्रत )
➡️ 20 जून : दक्षिणायन आरम्भ (पुण्यकाल : सूर्योदय से सूर्यास्त ) (ध्यान, जप व पुण्यकर्म कोटि-कोटि गुना अधिक व अक्षय फलदायी )
➡️ 21 जून : सूर्यग्रहण

🙏🏻पंचक
14मई2020 शाम 07.20 से
19मई 2020 शाम 07.53 तक

एकादशी
18मई 2020 सोमवार

प्रदोष
19मई 2020 मंगलवार

अमावस्या
22मई 2020 शुक्रवार

 *🌸दैनिक राशिफल🌸*

देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके।
नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।।
विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे।
जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।।

🐏मेष
मेहनत सफल रहेगी। डूबी हुई रकम प्राप्ति के योग बनते हैं। व्यावसायिक यात्रा मनोनुकूल रहेगी। आय में वृद्धि होगी। घर-परिवार में मांगलिक कार्य हो सकता है। देनदारी कम होगी। समय पर कर्ज चुका पाएंगे। प्रसन्नता रहेगी। बाहरी सहयोग मिलेगा।

🐂वृष
किसी बड़ी समस्या से सामना हो सकता है। फिजूलखर्ची पर नियंत्रण रखें। कुसंगति से हानि होगी। थकान तथा आलस्य रहेंगे। कार्य में अवरोध आ सकता है। शांति से प्रयास करें, सफलता मिलेगी। आय में वृद्धि हो सकती है। घर-बाहर तनाव रह सकता है।

👫मिथुन
किसी बड़ी चिंता से मुक्ति के योग हैं। संतान के विवाह के प्रयास सफल रहेंगे। आय व रोजगार में वृद्धि होगी। नवीन वस्त्राभूषण पर व्यय होगा। व्यावसायिक यात्रा मनोनुकूल रहेगी। कोई बड़ा कार्य करने का मन बनेगा। सफलता प्राप्त होगी। प्रसन्नता रहेगी।

🦀कर्क
पारिवारिक मित्र व संबंधियों का आगमन होगा। अच्छी खबर प्राप्त होगी। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। विवाद से क्लेश हो सकता है। पुरानी व्याधि उठ सकती है। व्यवसाय ठीक चलेगा। संपत्ति व मशीनरी आदि के नवीनीकरण पर खर्च अधिक हो सकता है जिसका तत्काल लाभ नहीं होगा।

🐅सिंह
घर-बाहर मान-सम्मान मिलेगा। मेहनत रंग लाएगी। पारिवारिक सहयोग प्राप्त होगा। घर से दूर प्रवास की योजना बनेगी। आय में वृद्धि होगी। आकांक्षाएं पूर्ण होने के योग हैं। मित्र व संबंधी के साथ समय सुखपूर्वक व्यतीत होगा। व्यवसाय मनोनुकूल चलेगा।

🙎‍♀️कन्या
अपनों का व्यवहार पसंद नहीं आएगा। बुरी सूचना मिल सकती है। मेहनत अधिक होगी। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। कार्यों में अवरोध होगा। चिंता तथा तनाव रहेंगे। दूसरों से अपेक्षा न करें। वाणी में हल्के शब्दों के प्रयोग से बचें। व्यवसाय ठीक चलेगा। प्रयास करते रहें।

⚖️तुला
मित्र, संबंधी व परिवार के साथ अच्छा समय व्यतीत होगा। यात्रा सफल रहेगी। बौद्धिक कार्य पूर्ण लाभ देंगे। थकान रहेगी। विरोध होगा। मातहतों का अच्छा सहयोग प्राप्त होगा। कोई अपरिचित मार्गदर्शक मिल सकता है। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। गरीबों को भोजन कराएं।

🦂वृश्चिक
जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। कारोबारी बड़े निर्णय ले सकते हैं। स्थायी संपत्ति में वृद्धि तथा बड़ा लाभ हो सकता है। नौकरी में प्रमोशन तथा रोजगार की प्राप्ति संभव है। व्यवसाय ठीक चलेगा। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। बाहरी व्यक्ति पर ध्यान दें।

🏹धनु
दांपत्य जीवन में खुशी रहेगी। किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का मौका मिल सकता है। कानूनी अड़चन दूर होगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। आय में वृद्धि होगी। दूसरों के झगड़ों में न पड़ें। कारोबारी क्षमता तथा आमदनी में वृद्धि के योग हैं।

🐊मकर
वाहन, मशीनरी व अग्नि आदि के प्रयोग में लापरवाही न करें। पुरानी व्याधि बाधा का कारण बन सकती है। कार्य में अवरोध उत्पन्न हो सकता है। धनहानि के योग हैं। वरिष्ठजनों की सलाह मानें तथा विवेक से कार्य करें। व्यवसाय ठीक चलेगा। लाभ होगा।

🍯कुंभ
तीर्थाटन तथा संत दर्शन का लाभ मिल सकता है। अध्यात्म में रुचि रहेगी। कानूनी अड़चन दूर होकर लाभ की स्थिति बनेगी। वरिष्ठ जन का मार्गदर्शन तथा सहयोग प्राप्त होगा। किसी बड़ी चिंता से मुक्ति मिलेगी। घर-परिवार में प्रसन्नता रहेगी। जोखिम न लें।

🐟मीन
दूसरों के कार्य में दखल न दें। योजना फलीभूत होगी। कार्यकुशलता में वृद्धि होगी। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। यात्रा की योजना बनेगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। नए उपक्रम प्रारंभ करने का मन बन सकता है। पार्टनरों तथा भाइयों से सहयोग मिलेगा। लाभ होगा।

🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏

Spread the love

Written by 

Related Posts

Leave a Comment

five × 3 =

WhatsApp chat