Dharma & Karma (ज्योतिष शास्त्र) 

आज राशिफ़ल के साथ जानिए कर्ज से कैसे पाएं छुटकारा, और क्या आप जानते हैं? जिस घर में पत्नी का सम्मान न हो ऐसे लोगो के घर मे बरक्कत नही होती! और धन…

आचार्य रमेश चन्द्र तिवारी धानिवबांग नालासोपारा पालघर महाराष्ट्र 🌸🙏🌸
सम्पर्क सूत्र – 9518782511
🙏🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🙏
🙏🌸🙏 अथ पंचांगम् 🙏🌸🙏
🙏ll जय श्री राधे ll*🙏
🙏🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🙏

दिनाँक -: 26/08/2020,बुधवार
अष्टमी, शुक्ल पक्ष
भाद्रपद
“””””””””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

तिथि ———अष्टमी 10:38:59 तक
पक्ष —————————-शुक्ल
नक्षत्र ——-अनुराधा 13:03:07
योग ————वैधृति 19:30:54
करण ————-बव 10:38:59
करण ———-बालव 21:58:18
वार ————————–बुधवार
माह ————————-भाद्रपद
चन्द्र राशि ——————वृश्चिक
सूर्य राशि ———————-सिंह
रितु —————————–वर्षा
आयन ——————दक्षिणायण
संवत्सर ———————–शार्वरी
संवत्सर (उत्तर) ————-प्रमादी
विक्रम संवत —————- 2077
विक्रम संवत (कर्तक)——2076
शाका संवत —————-1942

मुम्बई
सूर्योदय —————- 06:23:21
सूर्यास्त —————–18:56:40
दिन काल ————–12:33:19
रात्री काल ————-11:26:53
चंद्रोदय —————- 13:27:06
चंद्रास्त —————–24:50:20

लग्न —- सिंह 9°7′ , 129°7′

सूर्य नक्षत्र ——————-रजत
चन्द्र नक्षत्र —————-अनुराधा

🙏🌸पद, चरण🌸🙏

नू —-अनुराधा 07:14:10
ने —-अनुराधा 13:03:07
नो —-ज्येष्ठा 18:53:48
या —-ज्येष्ठा 24:46:13

🙏🌸ग्रह गोचर🌸🙏

ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद

सूर्य=सिंह 09°22 ‘ मघा , 3 मू
चन्द्र = वृश्चिक 12°23 ‘ अनुराधा’ 3 नू
बुध = सिंह 17°57 ‘ पू oफा o ‘ 1 मो
शुक्र= मिथुन 23°55, पुनर्वसु ‘ 2 को
मंगल=मेष 02°30′ अश्विनी ‘ 1 चु
गुरु=धनु 24°22 ‘ पू oषा o , 4 ढा
शनि=मकर 04°43′ उ oषा o ‘ 3 जा
राहू=मिथुन 01°40 ‘ मृगशिरा , 3 का
केतु=धनु 01 ° 40 ‘ मूल , 1 ये

🌸राहू काल 12:21 – 13:57 अशुभ
अभिजित 11:55 -12:46 अशुभ

🌸 चोघडिया, दिन
लाभ 05:57 – 07:33 शुभ
अमृत 07:33 – 09:09 शुभ
काल 09:09 – 10:45 अशुभ
शुभ 10:45 – 12:21 शुभ
रोग 12:21 – 13:57 अशुभ
उद्वेग 13:57 – 15:33 अशुभ
चर 15:33 – 17:09 शुभ
लाभ 17:09 – 18:45 शुभ

🌸 चोघडिया, रात
उद्वेग 18:45 – 20:09 अशुभ
शुभ 20:09 – 21:33 शुभ
अमृत 21:33 – 22:57 शुभ
चर 22:57 – 24:21* शुभ
रोग 24:21* – 25:45* अशुभ
काल 25:45* – 27:09* अशुभ
लाभ 27:09* – 28:33* शुभ
उद्वेग 28:33* – 29:57* अशुभ

🌸 दिशा शूल ज्ञान————-उत्तर
परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो पिस्ता अथवा पान खाके यात्रा कर सकते है l
इस मंत्र का उच्चारण करें-:
शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l
भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll

🌸अग्नि वास ज्ञान
8 + 4 + 1 = 13 ÷ 4 = 1 शेष
पाताल लोक पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l

🌸 शिव वास एवं फल
8 + 8 + 5 = 21 ÷ 7 = 0 शेष
शमशान वास = मृत्यु कारक

🌸विशेष जानकारी🌸

  • श्री राधाष्टमी व्रत(श्री जी प्राकट्योत्सव)
  • श्री हरिदास जयन्ती
  • गरुण गोविन्द जी मेला छटीकरा
  • दधीचि जयन्ती

*सर्वार्थ सिद्धि योग 13:03 तक

🙏🌸शुभ विचार🌸🙏

बंधनानि खलु सन्ति बहूनि प्रेमरज्जुकृतबन्धनमन्यत् ।
दारुभेदनिपुणोऽपिषण्डघ्निर्निष्क्रियोभवति पंकजकोशे ।।
।।चा o नी o।।

दुनिया में बाँधने के ऐसे अनेक तरीके है जिससे व्यक्ति को प्रभाव में लाया जा सकता है और नियंत्रित किया जा सकता है. सबसे मजबूत बंधन प्रेम का है. इसका उदाहरण वह मधु मक्खी है जो लकड़ी को छेड़ सकती है लेकिन फूल की पंखुडियो को छेदना पसंद नहीं करती चाहे उसकी जान चली जाए.

🌸सुभाषितानि🌸

गीता -: राजविद्याराजगुह्ययोग अo-09

यान्ति देवव्रता देवान्पितृन्यान्ति पितृव्रताः ।,
भूतानि यान्ति भूतेज्या यान्ति मद्याजिनोऽपि माम्‌ ॥,

देवताओं को पूजने वाले देवताओं को प्राप्त होते हैं, पितरों को पूजने वाले पितरों को प्राप्त होते हैं, भूतों को पूजने वाले भूतों को प्राप्त होते हैं और मेरा पूजन करने वाले भक्त मुझको ही प्राप्त होते हैं।, इसीलिए मेरे भक्तों का पुनर्जन्म नहीं होता (गीता अध्याय 8 श्लोक 16 में देखना चाहिए)॥,25॥,

🌸व्रत पर्व विवरण🌸

🌸 विशेष – अष्टमी को नारियल का फल खाने से रोग बढ़ता है ।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

🌸जिस घर में पत्नी का सम्मान न हो ऐसे लोगो के घर मे बरक्कत नही होती और धन का आगमन ऐसे घरों में भी नहीं होता है, जहां पति-पत्नी में टकराव हो। अर्थात पति-पत्नी में परस्पर प्रेम भावना का अभाव होगा तो लक्ष्मी पहले ही वहां से दूर हो जाएंगी। महिलाओं का सम्मान और उनका आदर नहीं करने पर लक्ष्मी रूठ जाती हैं। जिन घरों में पुरुष मेहनत बहुत करते हैं, लेकिन घर की महिलाओं को सताते हैं या उनका अपमान करते हैं, उनसे कटूतापूर्ण व्यवहार करते हैं, वहां लक्ष्मी का आगमन बिल्कुल नहीं होता है। इसके साथ ही लक्ष्मी का वास उन घरों में भी नहीं होता है, जहां आपसी कड़ुवाहट होती है।
पति से अनबन आप दो इलायची लीजिए और एक अपने तकिए के नीचे और एक अपने पति के तकिए के नीचे रख ले सुबह उठकर दोनो इलाइची को कूट के चाय में ड़ालकर अपने पति को दीजिए ऐसे करके देखे प्रेम जरूर बढेगा
या आप अपने साड़ी के पल्ले में सात लौंग बाध लीजिए और शानिवार वाले दिन उसे कूट दीजिए कूटकर लौंग को अपने घर के आटे के साथ मिला लीजिए और उस आटे की अपने पति को खिलाए इससे भी प्रेम बढ़ता है।

🌸 कर्ज से संबंधित समस्या के लिए🌸
👦🏻 कई बार पारिवारिक जिम्मेदारियों को निभाने के लिए लोगों को कर्ज लेना पड़ता है। गलत दिन या नक्षत्र में लिया गया पैसा आसानी से नहीं चुकता। ऐसी स्थिति में कर्ज पर ब्याज बढ़ता रहता है। कई बार स्थिति काफी परेशानी वाली हो जाती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, ऐसी स्थिति में हर बुधवार को ऋणहर्ता गणपति स्त्रोत का पाठ करने से आपकी इस समस्या का निदान हो सकता है।
भगवान गणेशजी का ध्यान करें
ॐ सिन्दूर-वर्णं द्वि-भुजं गणेशं लम्बोदरं पद्म-दले निविष्टम्।
ब्रह्मादि-देवैः परि-सेव्यमानं सिद्धैर्युतं तं प्रणामि देवम्।।
🌸 ।।मूल-पाठ।।
सृष्ट्यादौ ब्रह्मणा सम्यक् पूजित: फल-सिद्धए।
सदैव पार्वती-पुत्र: ऋण-नाशं करोतु मे।।1
त्रिपुरस्य वधात् पूर्वं शम्भुना सम्यगर्चित:।
सदैव पार्वती-पुत्र: ऋण-नाशं करोतु मे।।2
हिरण्य-कश्यप्वादीनां वधार्थे विष्णुनार्चित:।
सदैव पार्वती-पुत्र: ऋण-नाशं करोतु मे।।3
महिषस्य वधे देव्या गण-नाथ: प्रपुजित:।
सदैव पार्वती-पुत्र: ऋण-नाशं करोतु मे।।4
तारकस्य वधात् पूर्वं कुमारेण प्रपूजित:।
सदैव पार्वती-पुत्र: ऋण-नाशं करोतु मे।।5
भास्करेण गणेशो हि पूजितश्छवि-सिद्धए।
सदैव पार्वती-पुत्र: ऋण-नाशं करोतु मे।।6
शशिना कान्ति-वृद्धयर्थं पूजितो गण-नायक:।
सदैव पार्वती-पुत्र: ऋण-नाशं करोतु मे।।7
पालनाय च तपसां विश्वामित्रेण पूजित:।
सदैव पार्वती-पुत्र: ऋण-नाशं करोतु मे।।8
इदं त्वृण-हर-स्तोत्रं तीव्र-दारिद्र्य-नाशनं,
एक-वारं पठेन्नित्यं वर्षमेकं सामहित:।
दारिद्र्यं दारुणं त्यक्त्वा कुबेर-समतां व्रजेत्।।
👉🏻 कैसे करें ऋणहर्ता गणपति स्त्रोत का पाठ
➡ – हर बुधवार सुबह उठकर स्नान आदि करने के बाद भगवान श्रीगणेश की पूजा करें।
➡ – भगवान श्रीगणेश को दूर्वा चढ़ाएं और लड्डुओं का भोग लगाएं।
➡ – इसके बाद शुद्ध घी का दीपक जलाकर ऋणहर्ता गणपति स्त्रोत का मन ही मन पाठ करें।
➡ – इस तरह ऋणहर्ता गणपति स्त्रोत का पाठ करने से आपकी कर्ज से संबंधित समस्याएं दूर हो सकती हैं।

 *🌸दैनिक राशिफल🌸*

देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके।
नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।।
विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे।
जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।।

🐏मेष
प्रयास सफल रहेंगे। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। नौकरी में नई जिम्मेदारी मिल सकती है। सामाजिक काम करने की इच्छा प्रबल होगी। मान-सम्मान मिलेगा। वाणी में संयम रखें। दूसरों के कार्य में हस्तक्षेप न करें। आय के नए स्रोत प्राप्त हो सकते हैं। कारोबार में वृद्धि होगी।

🐂वृष
घर में अतिथियों का आगमन होगा। किसी मांगलिक कार्य में भाग लेने का अवसर प्राप्त हो सकता है। दूर से शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। आत्मविश्वास बढ़ेगा। क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। ईर्ष्यालु व्यक्तियों से सावधान रहें। धन प्राप्ति सु्गम होगी।

👫मिथुन
कोई बड़ी धनहानि की आशंका है। लापरवाही न करें। भावना को वश में रखें। मन की बात किसी को न बतलाएं। नौकरी में अपेक्षाएं बढ़ेंगी। धैर्यशीलता की कमी रहेगी। क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय में निश्चितता रहेगी। भागदौड़ होगी।

🦀कर्क
शत्रु सक्रिय रहेंगे। चुगलखोरों से सावधान रहें। वाणी में हल्के शब्दों के प्रयोग से बचें। नई आर्थिक योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। काफी समय से रुके काम पूर्ण हो सकते हैं। मान-सम्मान मिलेगा। व्यापार-व्यवसाय मनोनुकूल लाभ देगा। प्रमाद न करें।

🐅सिंह
घर-परिवार की चिंता रहेगी। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। शारीरिक कष्ट संभव है। पूजा-पाठ में मन लगेगा। तीर्थयात्रा की योजना बनेगी। कोर्ट-कचहरी व सरकारी कार्यालय के काम मनोनुकूल रहेंगे। आय में वृद्धि होगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। जल्दबाजी से बचें।

🙎‍♀️कन्या
किसी मनोरंजक यात्रा का आयोजन हो सकता है। विद्यार्थी वर्ग अपने शिक्षण-अध्ययन संबंधी कार्य में सफलता प्राप्त करेगा। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। जल्दबाजी में कोई कार्य न करें तथा विवाद की स्थिति न आने दें। कोई अरुचिकर घटना संभव है।

⚖️तुला
बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। कारोबार में वृद्धि होगी। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। भाग्य का साथ मिलेगा। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। थकान व कमजोरी रह सकती है।

🦂वृश्चिक
पुराना रोग उभर सकता है। वाहन, मशीनरी व अग्नि आदि के प्रयोग में लापरवाही न करें। शारीरिक हानि हो सकती है। किसी भी तरह के विवाद में भाग न लें। स्वाभिमान को चोट पहुंच सकती है। लेन-देन में सावधानी रखें। कुसंगति से बचें। महत्वपूर्ण निर्णय टालें।

🏹धनु
आवश्यक वस्तु गुम हो सकती है। समय पर नहीं मिलेगी। तनाव रहेगा। घर के वृद्धजनों के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। कोई बड़ी समस्या खड़ी हो सकती है। भय रहेगा। भूमि व भवन संबंधी बाधा दूर होकर उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। लाभ होगा।

🐊मकर
कुंआरों को वैवाहिक प्रस्ताव मिल सकता है। दांपत्य जीवन में आनंद रहेगा। कोर्ट व कचहरी तथा सरकारी कार्यालयों में रुके कार्य मनोनुकूल रहेंगे। आय के नए स्रोत प्राप्त हो सकते हैं। भाग्य का साथ मिलेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। प्रमाद न करें।

🍯कुंभ
भाग्योन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा मनोनुकूल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ के योग बनते हैं। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। किसी बड़ी समस्या का हल मिल सकता है। व्यस्तता के चलते स्वास्थ्य खराब हो सकता है। धनार्जन होगा।

🐟मीन
किसी अपने ही व्यक्ति से कहासुनी हो सकती है। आय में कमी होगी। अप्रत्याशित खर्च सामने आ सकते हैं। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। चिंता तथा तनाव रहेंगे। आशा व निराशा के भाव रहेंगे। खर्च से हाथ तंग रहेगा। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेंगे। जोखिम बिलकुल न उठाएं।

🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏

Spread the love

Written by 

Related Posts

Leave a Comment

fifteen − eight =

WhatsApp chat