Dharma & Karma (ज्योतिष शास्त्र) Dream Zone 

धनतेरस को क्या खरिदें! क्या नहीं खरीदे!! दीपावली में मां लक्ष्मी की कैसी मूर्ति खरीदें! और रमा एकादशी…

आचार्य रमेश चन्द्र तिवारी धानिवबऻग नालासोपारा पालघर महाराष्ट्र- 🌸🙏🌸
सम्पर्क सूत्र – 9518782511
🙏🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🙏
🙏🌸🙏 अथ पंचांगम् 🙏🌸🙏
🙏ll जय श्री राधे ll*🙏
🙏🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🙏

दिनाँक -: 11/11/2020,बुधवार
एकादशी, कृष्ण पक्ष
कार्तिक
“””””””””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

तिथि ——-एकादशी 24:40:26 तक
पक्ष —————————-कृष्ण
नक्षत्र ———उ०फा०28:24:22
योग ————वैधृति 19:25:53
करण ————-बव 14:05:27
करण ———-बालव 24:40:26
वार ————————–बुधवार
माह ————————-कार्तिक
चन्द्र राशि ——-सिंह 11:59:43
चन्द्र राशि ——————– कन्या
सूर्य राशि ———————–तुला
रितु —————————–शरद
आयन ——————दक्षिणायण
संवत्सर ———————–शार्वरी
संवत्सर (उत्तर) ————-प्रमादी
विक्रम संवत —————-2077
विक्रम संवत (कर्तक) —-2076
शाका संवत —————-1942

मुम्बई
सूर्योदय —————-06:39:19
सूर्यास्त —————–17:42:23
दिन काल ————-11:03:04
रात्री काल ————-12:57:34
चंद्रास्त —————-15:07:34
चंद्रोदय —————–27:16:01

लग्न —-तुला 24°57′ , 204°57′

सूर्य नक्षत्र —————विशाखा
चन्द्र नक्षत्र ——–उत्तरा फाल्गुनी
नक्षत्र पाया ——————–रजत

🌸🙏🌸 पद, चरण 🌸🙏🌸

टे —-उत्तर फाल्गुनी 11:59:43
टो —उत्तरा फाल्गुनी 17:29:53
पा —उत्तरा फाल्गुनी 22:58:04
पी —उत्तरा फाल्गुनी 28:24:22

🌸 राहू काल 12:03 – 13:24 अशुभ
🌸 अभिजित 11:41 -12:25 अशुभ

🌸 चोघडिया, दिन
लाभ 06:38 – 07:59 शुभ
अमृत 07:59 – 09:21 शुभ
काल 09:21 – 10:42 अशुभ
शुभ 10:42 – 12:03 शुभ
रोग 12:03 – 13:24 अशुभ
उद्वेग 13:24 – 14:45 अशुभ
चर 14:45 – 16:07 शुभ
लाभ 16:07 – 17:28 शुभ

🌸 चोघडिया, रात
उद्वेग 17:28 – 19:07 अशुभ
शुभ 19:07 – 20:46 शुभ
अमृत 20:46 – 22:25 शुभ
चर 22:25 – 24:03* शुभ
रोग 24:03* – 25:42* अशुभ
काल 25:42* – 27:21* अशुभ
लाभ 27:21* – 29:00* शुभ
उद्वेग 29:00* – 30:39* अशुभ

  *🌸दिशा शूल ज्ञान---------------------उत्तर*

परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो पान अथवा पिस्ता खाके यात्रा कर सकते है l
इस मंत्र का उच्चारण करें-:
शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l
भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll

🌸 अग्नि वास ज्ञान -:
यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,
चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।
दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,
नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।। महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्
नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।
15 + 11 + 4 + 1 = 31 ÷ 4 = 3 शेष
मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l

🌸 शिव वास एवं फल -:
26 + 26 + 5 = 57 ÷ 7 = 1 शेष
कैलाश वास = शुभ कारक

 *🙏🌸शुभ विचार 🌸🙏*

मांसभक्षैः सुरापानैः मूर्खैश्चाऽक्षरवर्जितैः ।
पशुभि पुरुषाकारर्भाराक्रान्ताऽस्ति मेदिनी ।।
।।चा o नी o।।

यह धरती उन लोगो के भार से दबी जा रही है, जो मास खाते है, दारू पीते है, बेवकूफ है, वे सब तो आदमी होते हुए पशु ही है.

  *🌸 सुभाषितानि 🌸*

गीता -: आत्मसंयमयोग अo-06

जितात्मनः प्रशान्तस्य परमात्मा समाहितः ।,
शीतोष्णसुखदुःखेषु तथा मानापमानयोः ॥,

भावार्थ : सरदी-गरमी और सुख-दुःखादि में तथा मान और अपमान में जिसके अन्तःकरण की वृत्तियाँ भलीभाँति शांत हैं, ऐसे स्वाधीन आत्मावाले पुरुष के ज्ञान में सच्चिदानन्दघन परमात्मा सम्यक्‌ प्रकार से स्थित है अर्थात उसके ज्ञान में परमात्मा के सिवा अन्य कुछ है ही नहीं॥,7॥,

🌸 व्रत पर्व विवरण –🌸
🌸 विशेष – रमा एकादशी
धनतेरस पर मां लक्ष्मी की प्रतिमा खरीदते समय ध्यान रखें कि मां खड़ी हुई मुद्रा में न हो। इस तरह की प्रतिमा से घर में धन नहीं रुकता है। हमेशा मां लक्ष्मी की आसन पर बैठी हई प्रतिमा खरीदना शुभ रहता है। लक्ष्मी जी की ज्यादातर प्रतिमाओं में उनके हाथे से धन वर्षा होती है। लेकिन ध्यान रखें की लक्ष्मी जी के हाथ से सिक्के भूमि पर न गिर रहे हों। ऐसी प्रतिमा खरीदना चाहिए जिसमें सिक्के किसी पात्र में गिर रहे हो। इससे घर में धन-धान्य भरा रहता है

दिवाली के दिन मां महालक्ष्मी और गणेश जी का पूजन तो किया ही जाता है। लेकिन ध्यान रखें कि इनके साथ ही घर के कुलदेवी-देवता का पूजन भी पूरे विधि-विधान के साथ करना चाहिए। कौड़ियां मां महालक्ष्मी की प्रिय हैं इसलिए पूजा में पीले रंग की कौड़िया रखना न भूलें। पूजा के बाद इन कौड़ियों को किसी लाल या पीले रंग के कपड़े में बांधकर तिजोरी में रख दें। माना जाता है कि धन प्राप्ति के लिए यह बहुत ही अचूक उपाय है। अगर आपका धन कहीं पर अटका हुआ है तो वह मिलने के भी शीघ्र योग बनते हैं।
हल्दी को शुभता और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है। दिवाली के दिन मां लक्ष्मी की पूजा में कुछ हल्दी की गांठे अवश्य रखें। पूजा संपन्न होने के बाद उन गांठों को किसी कपड़े में लपेटकर धन स्थान पर रख दें। इससे घर में बरकत आएगी
शनिदेव की वक्र दृष्टि के कारण भी व्यक्ति को आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। अगर आप भी इसी कारण परेशान हैं तो दिवाली का समय आपके लिए बहुत उत्तम रहेगा। अमावस्या तिथि को दिवाली का त्योहार मनाया जाता है इसलिए अगले दिन सुबह सूर्योदय से पहले उठकर स्नानादि करने के पश्चात पीपल के वृक्ष में जल अर्पित करें और देर रात्रि के समय दीपक भी अवश्य प्रज्वलित करें। लेकिन दीपक जलाने के बाद चुपचाप बिना पीछे मुड़े वापस आ जाएं। इससे आपकी शनि संबंधित सभी परेशानियों का अंत हो जाएगा।

🌸 रमा एकादशी 🌸
11 नवम्बर 2020 बुधवार को प्रातः 03:22 से रात्रि 12:40 तक एकादशी है ।
🌸 विशेष – 11 नवम्बर, बुधवार को एकादशी का व्रत (उपवास) रखें ।
🙏🏻 रमा एकादशी ( यह व्रत बड़े – बड़े पापों को हरनेवाला, चिन्तामणि तथा कामधेनु के समान सब मनोरथों को पूर्ण करनेवाला है |

🌸 गोवत्स द्वादशी 🌸
🙏🏻 कार्तिक मास (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार अश्विन मास) की द्वादशी को गोवत्स द्वादशी कहते हैं । इस दिन यानी 12 नवम्बर 2020 गुरुवार को दूध देने वाली गाय को उसके बछड़े सहित स्नान कराकर वस्त्र ओढाना चाहिये, गले में पुष्पमाला पहनाना , सींग मढ़ना, चन्दन का तिलक करना तथा ताम्बे के पात्र में सुगन्ध, अक्षत, पुष्प, तिल, और जल का मिश्रण बनाकर निम्न मंत्र से गौ के चरणों का प्रक्षालन करना चाहिये ।
🌸 क्षीरोदार्णवसम्भूते सुरासुरनमस्कृते ।
सर्वदेवमये मातर्गृहाणार्घ्य नमो नमः ॥
🙏🏻 (समुद्र मंथन के समय क्षीरसागर से उत्पन्न देवताओं तथा दानवों द्वारा नमस्कृत, सर्वदेवस्वरूपिणी माता तुम्हे बार बार नमस्कार है।)
🐄 पूजा के बाद गौ को उड़द के बड़े खिलाकर यह प्रार्थना करनी चाहिए-
🌸 “सुरभि त्वं जगन्मातर्देवी विष्णुपदे स्थिता ।
सर्वदेवमये ग्रासं मया दत्तमिमं ग्रस ॥
ततः सर्वमये देवि
मातर्ममाभिलाषितं सफलं कुरू नन्दिनी ॥“
🙏🏻 (हे जगदम्बे ! हे स्वर्गवसिनी देवी ! हे सर्वदेवमयि ! मेरे द्वारा अर्पित इस ग्रास का भक्षण करो । हे समस्त देवताओं द्वारा अलंकृत माता ! नन्दिनी ! मेरा मनोरथ पूर्ण करो।) इसके बाद रात्रि में इष्ट , ब्राम्हण , गौ तथा अपने घर के वृद्धजनों की आरती उतारनी चाहिए।

📖🌸पंचक
21 नवंबर रात्रि 10.24 से 26 नवंबर रात्रि 9.20 बजे तक

🌸 एकादशी
🌸 रमा एकादशी- 11 नवंबर दिन बुधवार
🌸 देवुत्थान एकादशी- 25 नवंबर दिन बुधवार

🌸 प्रदोष
🌸 शुक्रवार, 13 नवंबर – प्रदोष व्रत (कृष्ण)
🌸 शुक्रवार, 27 नवंबर – प्रदोष व्रत (शुक्ल)

🌸 दैनिक राशिफल 🌸

देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके।
नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।।
विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे।
जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।।

🐏मेष
व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। रुका हुआ धन प्राप्त हो सकता है। कारोबार में वृद्धि के योग हैं। नौकरी में अमन-चैन रहेगा। अधिकारी प्रसन्न रहेंगे। शेयर-मार्केट व म्युचुअल फंड इत्यादि से मनोनुकूल लाभ होगा। विवेक का प्रयोग करें। प्रतिष्ठा बढ़ेगी। प्रसन्नता रहेगी।
🐂वृष
फालतू खर्च होगा। लाभ के अवसर टलेंगे। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं। चोट व रोग से बचें। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। किसी व्यक्ति से व्यर्थ में विवाद हो सकता है। सम्मान को ठेस पहुंच सकती है। व्यवसाय ठीक चलेगा।
👫मिथुन
रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। भेंट व उपहार की प्राप्ति होगी। व्यापार-व्यापार अच्‍छा चलेगा। निवेश शुभ रहेगा। नौकरी में अधिकार बढ़ सकते हैं। व्यावसायिक यात्रा मनोनुकूल रहेगी। प्रसन्नता तथा उत्साह में वृद्धि होगी। जोखिम न लें। प्रमाद से बचें।
🦀कर्क
चोट व रोग से बचें। जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। उत्साहवर्धक सूचना प्राप्त होगी। भूले-बिसरे साथियों से मुलाकात होगी। आत्मसम्मान बना रहेगा। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। आय में वृद्धि होगी। नए मित्र बनेंगे। जीवन सुखमय व्यतीत होगा। प्रसन्नता बनी रहेगी।

🐅सिंह
मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। काम में उत्साह व प्रसन्नता से ध्यान दे पाएंगे। वाद-विवाद से अपना पक्ष मजबूत कर पाएंगे। मित्रों का सहयोग कर पाएंगे। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। व्यापार-व्यवसाय लाभदायक रहेगा। नौकरी में प्रभाव क्षेत्र बढ़ेगा। निवेश में जल्दबाजी न करें।
🙍‍♀️कन्या
वाणी में हल्के शब्दों के प्रयोग से बचें। अकारण क्रोध व उत्तेजना रह सकते हैं। बेवजह किसी से विवाद हो सकता है। बुरी खबर मिल सकती है। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। काम में मन नहीं लगेगा। मन में संवेदनशीलता अधिक रहेगी। आय में निश्चितता रहेगी। भागदौड़ रहेगी। जोखिम न उठाएं।
⚖️तुला
भूमि व भवन संबंधी बाधा दूर होकर लाभ की स्थिति निर्मित होगी। कोई बड़ा सौदा बड़ा लाभ दे सकता है। व्यापार-व्यवसाय मनोनुकूल चलेगा। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। किसी प्रभावशाली व्यक्ति का सहयोग प्राप्त होगा। जल्दबाजी न करें।
🦂वृश्चिक
चोट व दुर्घटना से हानि की आशंका बनती है। आशंका-कुशंका के चलते कार्य प्रभावित होंगे। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। विवाद को बढ़ावा न दें। झंझटों से दूर रहें। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। आर्थिक परेशानी आ सकती है। आय में निश्चितता रहेगी। जोखिम न लें।

🏹धनु
धर्म-कर्म में रुचि रहेगी। सत्संग का लाभ मिलेगा। नए मित्र बनेंगे। कोर्ट व कचहरी के कार्य मनोनुकूल रहेंगे। लाभ के अवसर अवसर बढ़ेंगे। समस्याएं कम होंगी। मान-सम्मान मिलेगा। मित्र व रिश्तेदारों से संबंध सुधरेंगे। बुद्धि का प्रयोग करें। व्यापार-व्यवसाय व नौकरी से अनुकूलता बनी रहेगी।
🐊मकर
विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का अवसर प्राप्त होगा। यात्रा मनोरंजक रहेगी। कारोबार से लाभ होगा। उत्साह व प्रसन्नता से कार्य कर पाएंगे। घर के सभी सदस्य प्रसन्न व संतुष्ट रहेंगे। धन प्राप्ति सुगम होगी। संगीत आदि में दिलचस्पी बढ़ेगी।
🍯कुंभ
प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। कोर्ट व कचहरी के कामों की रुकावट दूर होगी। स्थिति मनोनुकूल रहेगी। कारोबार में लाभ वृद्धि होगी। नौकरी में सहकर्मी साथ देंगे। घर-परिवार की चिंता बनी रहेगी। निवेश में लाभ होगा। घर में सभी सदस्य आनंदपूर्वक रहेंगे। दूसरों के काम में हस्तक्षेप न करें।
🐟मीन
नई योजना बनेगी। कार्यस्‍थल पर सुधार व परिवर्तन हो सकता है। व्यापार-व्यवसाय मनोनुकूल रहेंगे। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। सुख के साधनों की प्राप्ति की कोशिशें कामयाब रहेंगी। नए काम हाथ में आएंगे। धन प्राप्ति सुगम होगी। निवेश में सोच-समझकर हाथ डालें। स्वास्‍थ्य का ध्यान रखें।

🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏

Spread the love

Written by 

Related Posts

Leave a Comment

1 × five =

WhatsApp chat