Journey Nazariya Waah re Duniya 

बस स्टाप और मेरी औकात, आप तीन हाथ नाके पर हो क्या ?? हाँ सर ….

मेरी कहानी मेरी ज़ुबानी….

आज कुछ काम से ठाणे गया वापस आने के लिए तीन हाथ नाका के बस स्टाप पर खडा आटो देख रहा था उतने समय मे एक सफेद कलर की कल्याण MH 05 पासिंग अर्टिगा मेरे सामने आ कर रूकी उसमे मेरे एक पुराने मित्र (अब कट्टर विरोधी) बैठे थे उन्होने गाडी का काँच निचे किया और कहा कही चलना है तो मै छोड देता हु विनय भाई.. वैसे भी आप पिछले चार साल से सडक पर हि खडे रह गए आज मैने गाडी ले ली…. आइए छोड देता हु

मैने कहा नही भाई मै छोटा आदमी हु आटो लेकर चला जाउगा आप परेशान ना हो…. वे गाडी से निचे उतरे और मुझे समझाने लगे की तुम आगे नही बढ सकते वही के वही हो जहा तीन साल पहले थे सडक पर ही खडे रहते हो कुछ नही कर पाए ना कुछ कर पाओगे …

हम तुम्हारे साथ छोडने के बाद आज प्लैट ले लिए गाडी है तुम वही घुम रहे हो सडक पर….

उनकी बाते सुनकर मै केवल मुस्कुरा रहा था… उनकी बाते मुझे बचकानी लग रही थी आज के जमाने मे भी लोग इस तरह से सोचते है मुझे नही लगा था… पर खैर वह अपनी बडी बडी बातो मे लगे हुए थे…. मेरा मजा ले रहे थे मजाक बनाए जा रहे थे मै केवल चुपचाप सुनकर मुस्कुराए जा रहा था….इतने मे मुझे एक फोन आया सामने #महाराष्ट्रनवनिर्माणसेना के स्टार पदाधिकारी थे उन्होने कहा

इतने मे मुझे एक फोन आया सामने #महाराष्ट्रनवनिर्माणसेना के स्टार पदाधिकारी थे उन्होने कहा ” विनय जी आप तीन हाथ नाके पर हो क्या ?? ” मैने कहा “हाँ सर यही खडा हुँ आप को कैसे पता ??” उन्होने कहा मै अभी वहा से निकला रूको वापस आपके पास आ रहा हुँ!

तब तक इन भाई साहब की बड बड चल ही रही थी… बात करते करते कुछ 5 मिनट भी नही बिता होगा…. एक रेज रोवर, तीन फार्च्युनर व करीब 4 से 5 अन्य गाडी का काफिला मेरे सामने आकर रूका, उस गाडी से कुल लोग निचे उतरे और मुझसे हाथ मिलाने लगे…

मनसे के पदाधिकारी ने गले लगाया और कहा बहुत दिनो मे मिलने की इच्छा थी आपसे आज अचानक मिल ही गए, कहा जा रहे है आप बताए ?? मैने कहा मै आटो के लिए खडा था तब तक मेरे ये मित्र आ गए उसके बाद आपका फोन आ गया… मै भी पुछा सर आप कैसे है ??

हाल चाल होने के बाद मेरे कल्याण के खडे मित्र ने भी मनसे के पदाधिकारी की तरफ हाथ बढाया उन्होने हाथ मिलाया और बात शुरू हुई… मेरे कल्याण के मित्र ने मनसे पदाधिकारी से कहा ” मै आपका बहुत बडा फैन हु सर आप आज ऐसे मिल गए अभी तक केवल आपको न्युज चैनलो पर व फेसबुक पर ही देखा था आज सामने से बात कर पा रहा हु बहुत अच्छा लगा और उन्होने सेल्फी लेने के लिए कहा…. मनसे पदाधिकारी ने भी सेल्फी दिया और मुझसे कहे…

विनय जी एक फोटो आपके साथ लेना है मुझे, आप वापस कब मिलोगे पता नही.. इसके बाद मनसे पदाधिकारी ने अपने साथी जो उनका मोबाईल व डायरी पकडा हुआ था उस व्यक्ति से अपना मोबाईल मांगे और मुझे कहा सर एक सेल्फी ले लु आपके साथ… मैने कहा क्यु मजाक कर रहे है आप सर मै इस लायक नही…

वो बोले आप क्या हो आपको पता नही आज महाराष्ट्र के गांव गांव मे आपको हर महाराष्ट्र सैनिक जानता है आप आदेश तो करो जान हाजिर है आपके लिए……दिसंबर मे आपने जो ऐतिहासिक काम करके सम्मानित श्री राज ठाकरे साहेब को अपने मंच पर जो सम्मान आपने दिया आज तक वैसा राज साहेब के साथ कभी नही हुआ होगा… आप सच मे अलग है, आप हर समय राज साहेब के विचार अपने समाज के लोगो को समझाते है उसका प्रसार महाराष्ट्र से युपी दिल्ली तक करते है, महाराष्ट्र के प्रति आपका प्यार व संवेदना बाकीयो से अलग है इसलिए मै भी आपको दिल से मानता हु… और हमारा यह प्रेम एक अलग मायने रखता है…. बस एक सेल्फी लेने दो सर…

साहेब ने मेरे साथ सेल्फी लिया…. उसके बाद मैने उनको कहा आप लोग कही जा रहे थे मेरे वजह से आप लोगो का समय ना खराब हो… उसके बाद उन्होने उनके अगल बगल खडे लोगो से कुछ बात किए और मुझे कहा सर आप मेरी गाडी लेकर जाओ ये आपको घर तक छोडकर वापस आ जाएगा… मैने कहा ऐसा सर मत करिए मै आटो से घर पहुच जाउगा पर वो नही माने…

आखिर मजबुरी मे उनकी बात माननी मुझे पडी… मैने कहा सर आपका इस सम्मान के लिए मै आजिवन आभारी हुँ… वे मुझे गले लगाए उसके बाद वो अपने काफिले के साथ आगे के यात्रा के लिए निकल पडे…

रेंज रोवर मे बैठे एक मित्र ने गाडी का दरवाजा मेरे लिए खोला मै अपने कल्याण के मित्र की तरफ देखा.. उसके पास गया उसके कंधे पर हाथ रखा और केवल इतना कहा……

मै जब चाहु आप से सौ गुना बेहतर जिंदगी जी सकता हु…
पर आप खुब पैसे वाले करोडपती होकर भी विनय दुबे नही बन सकते….

यही फरक है आपमे और एक रोड पर खडे विनय दुबे मे…

आपके पास भले फ्लैट गाडी हो पर मै सडकर पर खडे रहकर भी तुमसे कही गुना ज्यादा अमिर हु क्युकी मेरे पास लोगो का प्यार है..

उदाहरण देख लो अभी कुछ देर पहले मै आटो खोज रहा था… आप अपनी कार से निकलकर मेरी औकात नाप रहे थे… अब मै जा रहा हु घर ……आप खुद सोचना मेरी औकात क्या है ??……….

🙏 धन्यवाद राज साहेब ठाकरे जी इस सम्मान के लिए 🙏

आपका
विनय दुबे

अगर आपके ज़िन्दगी में भी कुछ अच्छा कुछ बुरा खट्टा मीठा अनुभव हुआ है और आपको लगता है दुनिया को बताना चाहिए तो शेयर करिये हमारे साथ आपकी पोस्ट यहां दिखेगी।

televisionplusnews@gmail.com

Spread the love

Related posts

Leave a Comment

WhatsApp chat