इसे योगी की ललकार कहें या मोटा भाई नू चमत्कार, आइए बारी बारी से दोनों लोगों के बारे में जानिए ऐसा क्या कर दिया जो आपकी सोंच से परे…

इधर हम सब कोरोना ओर लोकडाउन में ही उलझे रहे और उधर मोटा भाई ने जम्मूकश्मीर का बचाखुचा काम भी ढंग से निपटा दिया, गृहमंत्री अमित शाह 9 अभूतपूर्व फैसले लेने में लगे हुए थे, इस कोरोना लोकडाउन के बीच।

तो दूसरी तरफ योगी जी अपने अपने बचनपुर्ति और यौन कहें कि फ़िल्म इंडस्ट्री बसाने का अपना सपना पूरा करने में लगे रहे। पहले हैम आपको मोटा भाई के बारे में बताएगें फिर योगी जी के बारे में विस्तार से की कैसे बसेगी फ़िल्म इंडस्ट्री उत्तर प्रदेश में और उसका रूप और स्वरूप क्या होगा।

  1. पांच लाख हिन्दू और सिक्ख परिवार जम्मू कश्मीर के मूल निवासी घोषित किये गये।
  2. फारूख अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा के सभी अनावश्यक भत्ते व अन्य सरकारी सुविधायें समाप्त।
  3. जम्मू कश्मीर राज्य सरकार का जम्मू और कश्मीर विधि विश्वविद्यालय, अन्य विश्वविद्यालयों और शिक्षण संस्थाओं से नियन्त्रण समाप्त।
  4. जम्मू कश्मीर राज्य सरकार का सभी हिन्दू धार्मिक स्थलों से नियन्त्रण समाप्त।
  5. कश्मीर घाटी के क्षेत्रीय सक्षम अधिकारी हिन्दू और सिक्खों द्वारा 1990 के दौरान घाटी छोड़ते समय पीछे छोड़ी गयी उनकी सभी संपत्तियों पर अनाधिकृत कब्जों का स्वत: संज्ञान लेकर उन्हें खाली करायेंगे।
  6. विख्यात गोल्फ कोर्स एवं अन्य सभी क्लब कश्मीर राज्य सरकार के नियन्त्रण से मुक्त।
  7. सभी शिक्षण संस्थान व विश्वविद्यालय जम्मू कश्मीर के मुख्यमन्त्री के अधिकार क्षेत्र से बाहर।
  8. जिन अलगाववादियों व राष्ट्र द्रोहियों को सरकारी लाभ या कानूनी सुरक्षा मिली हुई थी वह हटाई गयी। यदि वह नागरिक सुरक्षा अधिनियम 1978 के अन्तर्गत वांछनीय हैं तो अब उनपर जम्मू कश्मीर राज्य के बाहर भी गिरफ्तार करके मुकदमा चलाया जा सकता है।
  9. वर्तमान परिस्थितियों में सचिवालय श्रीनगर नहीं जायेगा और जम्मू में ही स्थापित रहेगा। .
    जिन को गृहमंत्री ढूंढे नहीं मिल रहे थे
    लो अब खुद ही देख लो ..!!

उधर मोटा भाई का चमत्कार पढ़ा आपने तो इधर योगी जी की ललकार पढ़िये, जी हां फ‍िल्‍म निर्माण की दिशा में यूपी सरकार ने बढ़ाया हाथ, CM योगी ने दिए फ‍िल्‍मसिटी बनाने के न‍िर्देश, और उत्‍तर प्रदेश में फिल्म निर्माण एवं फिल्मोद्योग को बढ़ावा देने के ल‍िए मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने फिल्म सिटी की स्थापना, लखनऊ में प्रोसेसिंग यूनिट्स और 100 दर्शकों की क्षमता के सिनेमा हॉल बनाने के निर्देश दिए हैं।

https://twitter.com/CMOfficeUP/status/1267498464344236037

मुख्‍यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में फिल्म निर्माण के क्षेत्र में अपार सम्भावनाएं हैं। इसके दृष्टिगत बड़ी संख्या में फिल्म निर्माता व निर्देशक उत्तर प्रदेश का रुख कर रहे हैं। राज्य में फिल्म निर्माण को बढ़ावा देने के लिए सब्सिडी दी जा रही है और अब राज्‍य में प्रोसेसिंग यूनिट्स तथा फिल्म सिटी की स्थापना के संबंध में कार्यवाही की जाएगी।

https://twitter.com/CMOfficeUP/status/1267498178179465216

मुख्‍यमंत्री ने यू.पी. फिल्म पॉलिसी-2018 की समीक्षा भी की। उन्‍होंने कहा कि फिल्म सिटी की स्थापना के संबंध में उपयुक्त भूमि का परीक्षण करा लिया जाए। फिल्म निर्माण के मार्ग में आने वाली बाधाओं/समस्याओं को दृष्टिगत रखते हुए आवश्यक संशोधन किए जाएं। इससे रोजगार के अवसर सृजित होंगे और पूंजी निवेश को बढ़ावा मिलेगा।

मुख्‍यमंत्री ने न‍िर्देश दिए हैं कि यू.पी. फिल्म पॉलिसी-2018 के तहत फिल्म निर्माण एवं फिल्मोद्योग को बढ़ावा देने हेतु लखनऊ में प्रोसेसिंग यूनिट्स की स्थापना की कार्यवाही की जाए। ग्रामीण क्षेत्रों में 100 दर्शकों की क्षमता के सिनेमा हॉल के निर्माण की संभावना पर भी विचार हो।

उत्‍तर प्रदेश के लखनऊ और बनारस फिल्‍ममेकर्स की पहले से ही पसंद बने हुए हैं। सरकार ने फ‍िल्‍मों की शूटिंग के ल‍िए पहले से ही सुगम नीति बनाई हुई है। हाल ही में रिलीज हुई अमिताभ बच्‍चन की गुलाबो सिताबो, आयुष्‍मान खुराना की बाला और ड्रीमगर्ल, कार्तिक आर्यन की ‘पति, पत्‍नी और वो’, अजय देवगन की रेड जैसी अनगिनत फ‍िल्‍में उत्‍तर प्रदेश की ही कहानियां हैं और यहां पर ही शूट की गई हैं।

Spread the love

Written by 

Related Posts

Leave a Comment

one × four =

WhatsApp chat