आज सोमवार को क्या कहते हैं आपके सितारे? क्या आप जानते हैं कि त्रिपुरारी पूर्णिमा ही कार्तिक पूर्णिमा होता है? आचार्य रमेश चंद्र तिवारी

आचार्य रमेश चन्द्र तिवारी धानिवबांग नालासोपारा पालघर महाराष्ट्र🙏
सम्पर्क सूत्र -9518782511
🙏🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🙏
🙏🌹🙏 अथ पंचांगम् 🙏🌹🙏
🙏ll जय श्री राधे ll🙏
🙏🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🙏

दिनाँक -: 11/11/2019,सोमवार
चतुर्दशी, शुक्ल पक्ष
कार्तिक
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

तिथि ——–चतुर्दशी 18:01:39 तक
पक्ष —————————शुक्ल
नक्षत्र ——–अश्विनी 19:17:07
योग ————-सिद्वि 10:47:46
करण ——–वाणिज 18:01:39
करण ——विष्टि भद्र 30:36:10
वार ———————— सोमवार
माह ————————-कार्तिक
चन्द्र राशि ———————मेष
सूर्य राशि ———————-तुला
रितु —————————–शरद
सायन ————————-हेमन्त
आयन ——————दक्षिणायण
संवत्सर ———————-विकारी
संवत्सर (उत्तर) ———-परिधावी
विक्रम संवत —————-2076
विक्रम संवत (कर्तक) —-2076
शाका संवत —————–1941

मुम्बई
सूर्योदय —————–06:44:34
सूर्यास्त —————–18:00:03
दिन काल —————10:50:20
रात्री काल ————-13:10:24
चंद्रोदय —————–17:26:46
चंद्रास्त —————–30:19:39

लग्न —-तुला 24°13′ , 204°13′

सूर्य नक्षत्र —————-विशाखा
चन्द्र नक्षत्र —————–अश्विनी
नक्षत्र पाया ——————–स्वर्ण

   🌹  पद, चरण  🌹

चो —-अश्विनी 12:49:45

ला —-अश्विनी 19:17:07

ली —-भरणी 25:42:55

    🌹  ग्रह गोचर  🌹

ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद

सूर्य=तुला 24°12 ‘ विशाखा, 2 तू
चन्द्र = मेष 24°23 ‘ अश्विनी’ 3 चो
बुध=तुला 25°10 ‘ विशाखा’ 2 तू
शुक्र= वृश्चिक17°55, ज्येष्ठा ‘ 1 नो
मंगल=तुला 00°55 ‘ चित्रा ‘ 3 रा
गुरु=वृश्चिक 01°50 ‘ मूल , 1 ये
शनि=धनु 21°43′ पू oषा o ‘ 3 फा
राहू=मिथुन 16 °55 ‘ आर्द्रा , 4 छ
केतु=धनु 16 ° 55′ पूo षाo, 2 धा

 🌹शुभा$शुभ मुहूर्त🌹

राहू काल 07:59 – 09:20 अशुभ
यम घंटा 10:42 – 12:03 अशुभ
गुली काल 13:24 – 14:46 अशुभ
अभिजित 11:41 -12:25 शुभ
दूर मुहूर्त 12:25 – 13:08 अशुभ
दूर मुहूर्त 14:35 – 15:18 अशुभ

🌹गंड मूल 06:38 – 19:17 अशुभ

  🌹चोघडिया, दिन🌹

अमृत 06:38 – 07:59 शुभ
काल 07:59 – 09:20 अशुभ
शुभ 09:20 – 10:42 शुभ
रोग 10:42 – 12:03 अशुभ
उद्वेग 12:03 – 13:24 अशुभ
चर 13:24 – 14:46 शुभ
लाभ 14:46 – 16:07 शुभ
अमृत 16:07 – 17:28 शुभ

🌹चोघडिया, रात 🌹

चर 17:28 – 19:07 शुभ
रोग 19:07 – 20:46 अशुभ
काल 20:46 – 22:25 अशुभ
लाभ 22:25 – 24:03* शुभ
उद्वेग 24:03* – 25:42* अशुभ
शुभ 25:42* – 27:21* शुभ
अमृत 27:21* – 28:59* शुभ
चर 28:59* – 30:39* शुभ

नोट— दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है।
प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।
चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार ।
शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥
रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार ।
अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥
अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें ।
उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें ।
शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें ।
लाभ में व्यापार करें ।
रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें ।
काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है ।
अमृत में सभी शुभ कार्य करें ।

 🌹दिशा शूल ज्ञान-------------पूर्व*

परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा काजू खाके यात्रा कर सकते है l
इस मंत्र का उच्चारण करें-:
शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l
भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll

🌹  अग्नि वास ज्ञान  🌹

यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,
चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।
दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,
नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।। महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्
नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।

  14 + 2 + 1 = 17 ÷ 4 = 1 शेष

पाताल लोक पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l

🌹 शिव वास एवं फल 🌹

14 + 14 + 5 = 33 ÷ 7 = 5 शेष

ज्ञानवेलायां = कष्ट कारक

 🌹भद्रा वास एवं फल 🌹

स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।
मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।

सांय 18:01 से रात्रि 30:32 तक

स्वर्ग लोक = शुभ कारक

🌹   विशेष जानकारी   🌹
  • कार्तिक व्रतोद्यापन 🌹 शुभ विचार 🌹

कुराजराज्येन कुतः प्रजासुखं
कुमित्रमित्रेण कुतोऽभिनिर्वृतिः ।
कुदारदारैश्च कुतो गृहे रतिः
कुशिष्यमध्यापयतः कुतो यशः ।।
।।चा o नी o।।

एक बेकार राज्य में लोग सुखी कैसे हो? एक पापी से किसी शान्ति की प्राप्ति कैसे हो? एक बुरी पत्नी के साथ घर में कौनसा सुख प्राप्त हो सकता है. एक नालायक शिष्य को शिक्षा देकर कैसे कीर्ति प्राप्त हो?

  🌹  सुभाषितानि  🌹

गीता -: गुणत्रयविभागयोग अo-14
नान्यं गुणेभ्यः कर्तारं यदा द्रष्टानुपश्यति ।,
गुणेभ्यश्च परं वेत्ति मद्भावं सोऽधिगच्छति ॥,

जिस समय दृष्टा तीनों गुणों के अतिरिक्त अन्य किसी को कर्ता नहीं देखता और तीनों गुणों से अत्यन्त परे सच्चिदानन्दघनस्वरूप मुझ परमात्मा को तत्त्व से जानता है, उस समय वह मेरे स्वरूप को प्राप्त होता है॥,19॥,

🌹व्रत पर्व विवरण 🌹
वैकुंठ चतुर्दशी
🌹 विशेष – चतुर्दशी व पूर्णिमा के दिन तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है ।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

 🌷 त्रिपुरारी पूर्णिमा 🌷

➡ 12 नवम्बर 2019 मंगलवार को त्रिपुरारी पूर्णिमा हैं ।
🙏🏻 धर्म ग्रंथों के अनुसार,इसी दिन भगवान शिव ने असुरों के तीन नगर(त्रिपुर)का नाश किया था। इसलिए इसे त्रिपुरारी पूर्णिमा भी कहते हैं। चूंकि त्रिपुरारी पूर्णिमा भगवान शिव से संबंधित है इसलिए इस बार ये शुभ योग आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी कर सकता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार,इस दिन भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए विशेष उपाय किए जाएं तो हर परेशानी दूर हो सकती है।


➡ आपकी परेशानियां दूर कर सकते हैं ये उपाय
1⃣ यदि विवाह में अड़चन आ रही है तो पूर्णिमा को शिवलिंग पर केसर मिला दूध चढ़ाएं । जल्दी ही विवाह के योग बन सकते हैं ।
2⃣ मछलियों को आटे की गोलियां खिलाएं । इस दौरान भगवान शिव का ध्यान करते रहें । यह धन प्राप्ति का सरल उपाय है ।
3⃣ पूर्णिमा को 21 बिल्व पत्रों पर चंदन से ॐ नम: शिवाय लिखकर शिवलिंग पर चढ़ाएं । इससे आपकी इच्छाएं पूरी हो सकती है ।
4⃣ पूर्णिमा को नंदी (बैल) को हरा चारा खिलाएं । इससे जीवन में सुख-समृद्धि आएगी और परेशानियों का अंत होगा ।
5⃣ गरीबों को भोजन करवाएं ।इससे आपके घर में कभी अन्न की कमी नहीं होगी तथा पितरों की आत्मा को शांति मिलेगी ।
6⃣ पानी में काले तिल मिलाकर शिवलिंग का अभिषेक करें व ॐ नम: शिवाय का जप करें । इससे मन को शांति मिलेगी ।
7⃣ घर में पारद शिवलिंग की स्थापना करें व रोज उसकी पूजा करें । इससे आपकी आमदनी बढ़ाने के योग बनते हैं ।
8⃣ पूर्णिमा को आटे से 11 शिवलिंग बनाएं व 11 बार इनका जलाभिषेक करें । इस उपाय से संतान प्राप्ति के योग बनते हैं ।
9⃣ शिवलिंग का 101 बार जलाभिषेक करें । साथ ही महा मृत्युंजय ॐ हौं जूँ सः । ॐ भूर्भुवः स्वः । ॐ त्रयम्बकं यजामहे सुगंधिं पुष्टिवर्धनम् उर्व्वारुकमिव बन्धानान्मृत्यो मृक्षीय मामृतात् । ॐ स्वः भुवः भूः ॐ । सः जूँ हौं ॐ । मंत्र का जप करते रहें । इससे बीमारी ठीक होने में लाभ मिलता है ।
🔟 पूर्णिमा को भगवान शिव को तिल व जौ चढ़ाएं । तिल चढ़ाने से पापों का नाश व जौ चढ़ाने से सुख में वृद्धि होती है ।

🌷 भगवान्‌ श्रीकृष्ण 🌷
👉🏻 महाभारत, शान्तिपर्व॰ ४७/९२
एकोऽपि कृष्णस्य कृतः प्रणामो दशाश्वमेधावभृथेन तुल्यः ।
दशाश्वमेधी पुनरेति जन्म कृष्णप्रणामी न पुनर्भवाय ॥
👉🏻 नारदपुराण , उत्तरार्ध, ६/३
एको हि कृष्णस्य कृतः प्रणामो दशाश्वमेधावभृथेन तुल्यः ।।
दशाश्वमेधी पुनरेति जन्म कृष्णप्रणामी न पुनर्भवाय ।। ६-३ ।।
👉🏻 स्कन्दपुराण, वैष्णवखण्डः
एकोऽपि गोविन्दकृतः प्रणामः शताश्वमेधावभृथेन तुल्यः ।।
यज्ञस्य कर्त्ता पुनरेति जन्म हरेः प्रणामो न पुनर्भवाय ।।
➡ जिसका अर्थ है।
भगवान्‌ श्रीकृष्ण को एक बार भी प्रणाम किया जाय तो वह दस अश्वमेघ यज्ञों के अन्त में किये गये स्नान के समान फल देनेवाला होता है । इसके सिवाय प्रणाम में एक विशेषता है कि दस अश्वमेघ करने वाले का तो पुनः संसार में जन्म होता है, पर श्रीकृष्ण को प्रणाम करनेवाला अर्थात्‌ उनकी शरण में जानेवाला फिर संसार-बन्धन में नहीं आता ।’

Presents
 🌹  दैनिक राशिफल   🌹

देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके।
नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।।
विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे।
जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।।

🐏मेष
व्ययवृद्धि पर नियंत्रण नहीं रहेगा। दूसरों से अपेक्षा न करें। आशा व निराशा के बीच तनाव व चिंता रहेंगे। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। जल्दबाजी तथा भावनाओं में बहकर कोई निर्णय न लें। आय होगी। कारोबारी लाभ बना रहेगा। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें।

🐂वृष
रुका हुआ पैसा तथा पैसा वसूली में सफलता मिलेगी। मनोरंजक यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। व्यापार-व्यवसाय में लाभ वृद्धि होगी। घर-बाहर सभी तरफ से सहयोग प्राप्त होगा। प्रसन्नता बनी रहेगी। आलस्य हावी रह सकता है। दूसरों के झगड़ों में न पड़ें। लाभ होगा।

👫मिथुन
तंत्र-मंत्र में रुचि जागृत हो सकती है। किसी तीर्थ यात्रा का आयोजन हो सकता है। आर्थिक उन्नति हेतु विचार-विमर्श लाभकारी रहेगा। सामाजिक सेवा व दान-पुण्य के कार्य करने की प्रेरणा मिलेगी। मित्रों तथा परिवार के सदस्यों का सहयोग मिलेगा। घर-बाहर प्रसन्नता बनी रहेगी।

🦀कर्क
किसी धर्मस्थल की यात्रा-दर्शन आदि के सुयोग बनेंगे। किसी प्रभावशाली व्यक्ति का सहयोग व मार्गदर्शन प्राप्त होगा। राजकीय व्यक्ति से परिचय बढ़ सकता है। व्यस्तता रहेगी। थकान व कमजोरी रह सकती है। धन प्राप्ति सुगम होगी। घर-बाहर प्रसन्नता का वातावरण रहेगा।

🐅सिंह
सेहत के बारे में लापरवाही भारी पड़ सकती है। काम करते समय किसी भी तरह की जल्दबाजी व लापरवाही न करें। वाहनादि के प्रयोग में सावधानी रखें। कुसंगति से बचें। हंसी-मजाक में हल्कापन न हो तथा दूसरे के कार्य में हस्तक्षेप न करें। व्यापार ठीक चलेगा।

🙎कन्या
घर-बाहर सब तरफ हर कार्य में सहयोग प्राप्त होगा। किसी बड़ी समस्या का समाधान होगा। विवाह के इच्छुक व्यक्तियों को वैवाहिक प्रस्ताव प्राप्त हो सकता है। भाइयों का सहयोग प्राप्त होगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। उत्साह व प्रसन्नता बने रहेंगे।

⚖तुला
किसी संपत्ति का सौदा बड़ा लाभ दे सकता है। किसी कार्य की बाधा दूर होकर लाभ के अवसर प्राप्त होंगे। घर-बाहर वातावरण अनुकूल बनेगा। मित्रों व संबंधियों के साथ समय सुखमय व्यतीत होगा। उत्साह व प्रसन्नता में वृद्धि होगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे।

🦂वृश्चिक
किसी मांगलिक कार्यक्रम का आयोजन हो सकता है। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। किसी पार्टी व पिकनिक का आयोजन हो सकता है। रचनात्मक तथा बौद्धिक कार्य सफल रहेंगे। वरिष्ठ व्यक्तियों की शुभ सलाह प्राप्त होगी। रुके कार्यों में गति आएगी। धनार्जन होगा।

🏹धनु
बुरी खबर प्राप्त हो सकती है। मेहनत अधिक और लाभ कम होगा। कार्यों की सफलता में शंका रहेगी। विवाद को बढ़ावा न दें। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। धनहानि की आशंका है। चिंता तथा तनाव रहेंगे। व्यापार-व्यवसाय सामान्य रहेगा। प्रियजनों के साथ रिश्तों में खटास आ सकती है।

🐊मकर
थोड़े प्रयास से कार्य पूर्ण होंगे। मित्रों व रिश्तेदारों का सहयोग प्राप्त होगा। किसी बड़े कार्य को करने की योजना बनेगी। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। परमार्थ करने का अवसर प्राप्त हो सकता है। घर-बाहर प्रतिष्ठा बढ़ेगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। प्रसन्नता रहेगी।

🍯कुंभ
मित्र व संबंधियों से मुलाकात होगी। अच्छी खबरें मिलेंगी। आय बनी रहेगी। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। किसी मनोरंजक यात्रा का आयोजन हो सकता है। दूसरों के झगड़ों में न पड़ें। विवेक का प्रयोग समस्या से मुक्ति दिलाएगा। प्रसन्नता बनी रहेगी।

🐟मीन
अप्रत्याशित लाभ के अवसर प्राप्त हो सकते हैं। आर्थिक उन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। भाग्य की अनुकूलता रहेगी। किसी बड़े काम के लंबित प्रयास अब सफल रहेंगे। अपेक्षित कार्य पूर्ण होने से उत्साह व प्रसन्नता में वृद्धि होगी। आलस्य न करें।

🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏

Spread the love

Related posts

Leave a Comment

1 + 11 =

WhatsApp chat