Dharma & Karma 

🦂वृश्चिक राशि के लोग वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें, विशेषकर स्त्रियां। आप अपनी राशि में देखिए क्या है अच्छा और क्या है बुरा?

आचार्य रमेश चन्द्र तिवारी धानिवबांग नालासोपारा पालघर महाराष्ट्र 🌹🙏
सम्पर्क सूत्र – 9518782511
🙏🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🙏
🙏🌹🙏 अथ पंचांगम् 🙏🌹🙏
🙏ll जय श्री राधे ll*🙏
🙏🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🙏

दिनाँक -: 04/01/2020,शनिवार
नवमी, शुक्ल पक्ष
पौष
“””””””””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

तिथि ———-नवमी 25:31:51 तक
पक्ष —————————शुक्ल
नक्षत्र ———–रेवती 10:04:26
योग ————-शिव 23:52:35
करण ———-बालव 12:32:10
करण ———कौलव 25:31:51
वार ————————-शनिवार
माह —————————–पौष
चन्द्र राशि ——-मीन 10:04:26
चन्द्र राशि ———————–मेष
सूर्य राशि ————————धनु
रितु —————————-हेमंत
सायन ————————शिशिर
आयन ——————-दक्षिणायन
सायन ———————उत्तरारण
संवत्सर ———————-विकारी
संवत्सर (उत्तर) ———-परिधावी
विक्रम संवत —————-2076
विक्रम संवत (कर्तक) —-2076
शाका संवत —————-1941

मुम्बई
सूर्योदय —————–07:13:51
सूर्यास्त —————–18:12:34
दिन काल —————10:58:43
रात्री काल ————-13:01:33
चंद्रोदय —————–13:20:30
चंद्रास्त —————–26:00:05

लग्न —-धनु 19°1′ , 259°1′

सूर्य नक्षत्र —————-पूर्वाषाढा
चन्द्र नक्षत्र ——————–रेवती
नक्षत्र पाया ——————–स्वर्ण

             🌹पद, चरण🌹

ची —-रेवती 10:04:26

चु —-अश्विनी 16:42:33

चे —-अश्विनी 23:19:00

चो —-अश्विनी 29:53:36

           🌹ग्रह गोचर🌹

ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद

सूर्य=धनु 19°32 ‘ पू oषा o, 2 धा
चन्द्र = मीन 28°23 ‘ रेवती ‘ 4 ची
बुध = धनु 15 °10 ‘ पूoषाo’ 1 भू
शुक्र= मकर 24°55, धनिष्ठा ‘ 1 गा
मंगल=वृश्चिक 06°40′ अनुराधा ‘ 1 ना
गुरु=धनु 12°30 ‘ मूल , 4 भी
शनि=धनु 26°43′ उ oषा o ‘ 4 ढा
राहू=मिथुन 14 °04 ‘ आर्द्रा , 3 ङ
केतु=धनु 14 ° 04′ पूo षाo, 1 भू

       🌹शुभा$शुभ मुहूर्त🌹

राहू काल 09:48 – 11:06 अशुभ
यम घंटा 13:42 – 15:00 अशुभ
गुली काल 07:12 – 08:30 अशुभ
अभिजित 12:03 -12:45 शुभ
दूर मुहूर्त 08:35 – 09:17 अशुभ

🌹गंड मूल अहोरात्र अशुभ

🌹पंचक 07:12 – 10:04 अशुभ

🌹चोघडिया, दिन
काल 07:12 – 08:30 अशुभ
शुभ 08:30 – 09:48 शुभ
रोग 09:48 – 11:06 अशुभ
उद्वेग 11:06 – 12:24 अशुभ
चर 12:24 – 13:42 शुभ
लाभ 13:42 – 15:00 शुभ
अमृत 15:00 – 16:18 शुभ
काल 16:18 – 17:36 अशुभ

🌹चोघडिया, रात
लाभ 17:36 – 19:18 शुभ
उद्वेग 19:18 – 21:00 अशुभ
शुभ 21:00 – 22:42 शुभ
अमृत 22:42 – 24:24* शुभ
चर 24:24* – 26:06* शुभ
रोग 26:06* – 27:48* अशुभ
काल 27:48* – 29:30* अशुभ
लाभ 29:30* – 31:12* शुभ

नोट— दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है।
प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।
चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार ।
शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥
रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार ।
अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥
अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें ।
उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें ।
शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें ।
लाभ में व्यापार करें ।
रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें ।
काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है ।
अमृत में सभी शुभ कार्य करें ।

🌹दिशा शूल ज्ञान————-पूर्व
परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो लौंग अथवा कालीमिर्च खाके यात्रा कर सकते है l
इस मंत्र का उच्चारण करें-:
शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l
भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll

     🌹अग्नि वास ज्ञान🌹

यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,
चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।
दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,
नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।। महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्
नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।

   9 + 7 + 1 = 17  ÷ 4 = 1 शेष

पाताल लोक पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l

       🌹 शिव वास एवं फल🌹

9 + 9 + 5 = 23 ÷ 7 = 2 शेष

गौरि सन्निधौ = शुभ कारक

     🌹भद्रा वास एवं फल🌹

स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।
मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।

           🌹विशेष जानकारी🌹
  • श्री नारायणदेवाचार्य पाटोत्सव 🌹शुभ विचार🌹

हस्तौ दानविवर्जितौ श्रुतिपुटौ सारस्वतद्रोहिणौ
नेत्रे साधुविलोकनेन रहिते पादौ न तीर्थं गतौ ।।

अन्यायार्जितवित्त पूर्णमुदरं गर्वेण तुड्गं शिरो ।
रे रे जंबुक मुञ्चमुञ्च सहसा नीचं सुनिन्द्यं वपुः ।।
।।चा o नी o।।

अरे लोमड़ी !!! उस व्यक्ति के शरीर को तुरंत छोड़ दे. जिसके हाथो ने कोई दान नहीं दिया. जिसके कानो ने कोई विद्या ग्रहण नहीं की. जिसके आँखों ने भगवान् का सच्चा भक्त नहीं देखा. जिसके पाँव कभी तीर्थ क्षेत्रो में नहीं गए. जिसने अधर्म के मार्ग से कमाए हुए धन से अपना पेट भरा. और जिसने बिना मतलब ही अपना सर ऊँचा उठा रखा है. अरे लोमड़ी !! उसे मत खा. नहीं तो तू दूषित हो जाएगी.

            🌹सुभाषितानि🌹

गीता -: श्रद्धात्रयविभागयोग अo-17

त्रिविधा भवति श्रद्धा देहिनां सा स्वभावजा।,
सात्त्विकी राजसी चैव तामसी चेति तां श्रृणु॥,

श्री भगवान्‌ बोले- मनुष्यों की वह शास्त्रीय संस्कारों से रहित केवल स्वभाव से उत्पन्न श्रद्धा (अनन्त जन्मों में किए हुए कर्मों के सञ्चित संस्कार से उत्पन्न हुई श्रद्धा ”स्वभावजा” श्रद्धा कही जाती है।,) सात्त्विकी और राजसी तथा तामसी- ऐसे तीनों प्रकार की ही होती है।, उसको तू मुझसे सुन॥,2॥,

🌹 व्रत पर्व विवरण🌹

🌹 विशेष – नवमी को लौकी खाना गोमांस के समान त्याज्य है ।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

मन की शान्ति 🌷
🌿 मोर पंख आसन के नीचे रखने से मन में शान्ति मिलती है, ध्यान भजन में मन लगता है ।
🙏🏻 काजू प्रयोग🌷
➡ पैरों की एडियों में दरारे हों, पेट में कृमि हो तो बच्चों को २/३ काजू शहद के साथ अच्छी तरह से चबा चबा कर खाने दें…और बड़े हैं तो ५/७ काजू…..कृमि,कोढ़, काले मसूडों आदि में आराम होगा |
➡ काजू प्रयोग से मन भी मजबूत होता है ।

🌷बेटी की शादी 🌷
👉🏻 अगर कोई कष्ट है तो ऐसा नहीं सोचना की ये कष्ट सदा रहेगा …
👩🏼 बेटी की शादी नहीं हो रही तो पिता गुड़ मिश्रित जल से सूर्य नारायण को अर्घ्य दें, बेटी की शादी जल्दी हो जायेगी…।
उत्तर दिशा में मुख कर के “ॐ ह्रीं गौरियाय नमः” ये मन्त्र का जप करें तो शादी जल्दी होगी…घर वर अच्छा मिलेगा॥
👩🏼 बेटी को शादी के बाद ससुराल में कोई कष्ट दे रहा है तो बेटी को सिखा दें की हर महिने शुक्ल पक्ष की तृतीया को बिना नमक का भोजन करें और प्रार्थना करें की अमुक व्यक्ति मुझे कष्ट देते हैं, उनको सदबुद्धि दे की मुझे कष्ट ना दे… “ॐ ह्रीं ॐ” मन्त्र का जप करें …… शिव गीता का पाठ करें …. तकलीफ मिट जायेगी….
🌷 रोगियों के रोग हरने के लिए मंत्र जप सेवा 🌷
🙏🏻 “ॐ रुद्राय नमः” इस मंत्र की रोज एक माला करें, ऐसा 6 महिने तक करें तब मंत्र सिद्ध हो जायेगा फिर कोई अगर बीमार है तो आप इस मंत्र का जप करें, पानी में देखकर 21 बार इस मंत्र का जप करके वह पानी किसी को दें तो 3 दिन में/7 दिन में/ 11 दिन में आराम आ जायेगा (बीमारी से छुटकारा मिलेगा लेकिन इसका पैसा रुपया नहीं लेना, सेवा भाव से करना है )

          🌹दैनिक राशिफल🌹

देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके।
नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।।
विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे।
जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।।

🐏मेष
रोजगार में वृद्धि होगी। मेहनत का फल भरपूर प्राप्त होगा। पराक्रम व प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। निवेश, यात्रा व नौकरी मनोनुकूल रहेंगे। मित्र व संबंधी सहयोग करेंगे। विरोधी सक्रिय रहेंगे। धन प्राप्ति सुगम होगी। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। प्रमाद न करें।

🐂वृष
अतिथियों का आगमन होगा। उत्साहवर्धक सूचना प्राप्त होगी। वाणी में हल्के शब्दों के प्रयोग से बचें। आत्मसम्मान में वृद्धि होगी। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। निवेश शुभ रहेगा। नौकरी में कुछ प्रतिकूलता रह सकती है। व्यवसाय ठीक चलेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी।

👫मिथुन
व्यावसायिक यात्रा पूर्णत: सफल रहेगी। रोजगार में वृद्धि होगी। आय बढ़ेगी। भेंट व उपहार की प्राप्ति हो सकती है। निवेश शुभ रहेगा। नौकरी में प्रमोशन मिल सकता है। प्रसन्नता रहेगी। दूसरों के झगड़ों में न पड़ें। परिवार के किसी सदस्य की चिंता रहेगी।

🦀कर्क
व्ययवृद्धि से तनाव रहेगा। विवाद को बढ़ावा न दें। पुराना रोग उभर सकता है। आवश्यक वस्तु गुम हो सकती है। अपरिचित व्यक्तियों पर अतिविश्वास न करें। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। व्यवसाय ठीक चलेगा। उतार-चढ़ाव बना रहेगा।

🐅सिंह
बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। यात्रा से लाभ होगा। उच्चाधिकारी प्रसन्न रहेंगे। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। निवेश शुभ रहेगा। झंझटों में न पड़ें। भाग्य का साथ मिलेगा। प्रमाद से बचें। लाभ में वृद्धि होगी। घर-परिवार में प्रसन्नता रहेगी।

🙎कन्या
आर्थिक नीति में परिवर्तन सफल रहेगा जिसका भविष्य में लाभ मिलेगा। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रह सकता है। काम में मन लगेगा। जल्दबाजी से बचें। आय में वृद्धि होगी। भाई-बंधुओं का सहयोग प्राप्त होगा।

⚖तुला
तीर्थाटन की योजना बनेगी। तंत्र-मंत्र में रुचि रहेगी। कोर्ट व कचहरी के काम निबटेंगे। उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। जोखिम लेने का साहस कर पाएंगे। आय के नए स्रोत प्राप्त हो सकते हैं। उच्चाधिकारी के कोपभाजन बन सकते हैं। सावधान रहें।

🦂वृश्चिक
वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें, विशेषकर स्त्रियां। कुसंगति से हानि होगी। दूसरों से अपेक्षा न करें। जल्दबाजी से बाधा संभव है। चिंता तथा तनाव रहेंगे। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय-व्यय बराबर रहेगा। अतिविश्वास हानि देगा।

🏹धनु
मित्र व संबंधियों के सहयोग से लाभ होगा। जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। राजकीय काम बनेंगे। प्रसन्नता रहेगी। निवेश शुभ रहेगा। यात्रा मनोरंजक रहेगी। नौकरी में अधिकार बढ़ सकते हैं। प्रसन्नता रहेगी। जोखिम न उठाएं।

🐊मकर
संपत्ति के कार्य लाभ देंगे। बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। यात्रा लाभदायक रहेगी। नौकरी में सामंजस्य बैठाएं। निवेश शुभ रहेगा। भ्रम की स्थिति बन सकती है। व्यवसाय ठीक चलेगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। अपनों से बिगाड़ न करें। प्रमाद से बचें।

🍯कुंभ
रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। परीक्षा व प्रतियोगिता में लाभ की स्थिति निर्मित होगी। पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। नौकरीपेशा विवेक से कार्य करें। लाभ होगा। बड़ों से मार्गदर्शन लें। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। सामाजिक कार्य में रुचि बढ़ेगी।

🐟मीन
विवाद को बढ़ावा न दें। बुरी खबर मिल सकती है। पुराना रोग उभर सकता है। दूसरों से अपेक्षा दु:ख का कारण बनेगा। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। व्यवसाय ठीक चलेगा। लाभ होगा। परिवार के किसी सदस्य की चिंता रहेगी।

🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏

Spread the love

Written by 

Related posts

WhatsApp chat