सीतलहर ने ढाना शुरू किया कहर एक से आठ तक के सभी विद्यालय बन्द – वही बच्चों को नही मिल सका स्वेटर…

अम्बेडकरनगर। कल की भीषण ठंड में दिनभर ठिठुरने को मजबूर रहे नौनिहाल और आज भी हालात कुछ ठीक नहीं। फिल हाल इस भीषण ठंड को देखते अम्बेकरनगर ज़िलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र के आदेश पर जिले के सभी सीबीएसई,आईसीएसई,आदि बोर्ड से संचालित कक्षा 1-8 तक के सभी विद्यालय आज यानी बुधवार को बंद रहेंगे । इसकी जानकारी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अतुल कुमार सिंह ने दी । सरकार ने ठंड शुरू होने के पूर्व ही स्कूलों में स्वेटर बाँट देने के निर्देश तो दे दिए। जिले में टांडा शिक्षा क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालयो के छात्र छात्राओं को स्वेटर बाटे भी गए किंतु प्राथमिक विद्यालय के उन्हीं बच्चों को स्वेटर दिया गया जो उस दिन विद्यालय में उपस्थित थे। जूनियर स्तर के विद्यालयों के बच्चे तो अभी भी स्वेटर से वंचित है । 30 नवम्बर की तिथि थी स्वेटर बांटे जाने की अन्तिम अवधि। लेकिन अवधि बीतने के लगभग दो हाफ्ते से अधिक दिन बाद नहीं मिल सका विद्यालयों के सभी छात्र छात्राओं को स्वेटर।

अम्बेडकरनगर जिले में हवा हवाई साबित हो रहे है सरकार के सख्त निर्देश। टांडा शिक्षा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाला प्राथमिक विद्यालय बलरामपुर ग्राम सभा के यादवपुर में स्थित प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक अनुराग मिश्रा से जब टेलीविज़न प्लस न्यूज के सवांददाता से वार्ता हुई तो उन्होंने बताया कि बच्चों को स्वेटर तो मिला है लेकिन वितरण के दिन विद्यालय में जितने बच्चो की उपस्थिति थी उसी संख्या के आधार पर हमको स्वेटर दिया गया। स्वेटर मिलने की राह जोह रहे है अनुपस्थित बच्चे। प्रशासन के इतने सख्त निर्देश के बावजूद भी अवधि समय के भीतर जिले के सभी विद्यालयों में स्वेटर की आपूर्ति नहीं की जा सकी। ऐसे में प्रश्न यह उठता है कि जब इस भीषण ठंड में बच्चों को स्वेटर नहीं मिला तो फिर उसके बाद में स्वेटर बांटे जाने से बच्चो को क्या लाभ होगा। सूत्रों के अनुसार जिले के अधिकतर विद्यालयों में अभी सभी बच्चो को स्वेटर की आपूर्ति नहीं हो पाई है ।

चर्चा का विषय यह है कि जिस कार्य की जिम्मेदारी जिले के आला अधिकारी को दी गई है वह ही चुप्पी साधे हुए हैं। इसी विषय में हमारी बात क्षेत्र के कई प्राथमिक विद्यालयो के प्रधानाचार्य से हुई लेकिन किसी ने भी यह बात नहीं स्वीकारी कि हमारे विद्यालय के सभी बच्चो को स्वेटर आपूर्ति कराई गई है। यदि ठंड की वजह से बच्चों के साथ कोई घटना हो जाए तो कौन जिम्मेदार होगा।

रिपोर्टर – रितेश पांडेय (अम्बेडकर नगर) उत्तर-प्रदेश

Spread the love

Written by 

Related Posts

Leave a Comment

ten + seventeen =

WhatsApp chat