silver screen 

सरोज खान के निधन से बॉलीवुड में शोक, सभी सेलेब्स ने जताया दुख, तो वहीं माधुरी दीक्षित ने…

बॉलीवुड की जानी मानी कोरियोग्राफर सरोज खान का कल (शुक्रवार को) कार्डिएक अरेस्ट के चलते निधन हो गया। वो पिछले कुछ समय से अस्पताल में भर्ती थीं। सरोज खान के निधन से बॉलीवुड में शोक की लहर दौड़ गई है। सरोज खान के निधन पर सेलेब्स सोशल मीडिया पर पोस्ट कर शोक जता रहे हैं।

वहीं माधुरी दीक्षित ने ट्वीट कर लिखा, ‘मैं अपनी दोस्त और गुरु सरोज खान के निधन से शोक में हूं। डांस में मेरा बेस्ट देने तक मुझे इस ऊँचाई पर पहुंचने में मेरी मदद करने के लिए मैं हमेशा उनकी आभारी रहूंगी। दुनिया ने एक बेहतरीन टैलेंटेड शख्स को खो दिया। मैं हमेशा आपको याद करूंगी। उनके परिवार को मेरी सांत्वना। भगवान आपकी आत्मा को शांति दे।

माधुरी ने इंस्टाग्राम पर सरोज खान के साथ अपनी कुछ खास तस्वीरें भी शेयर की और लिखा, ‘मैं आज गहरे दुख में हूं और मेरे पास शब्द नहीं हैं। शुरुआत से सरोज जी मेरे सफर का हिस्सा थीं। उन्होंने मुझे बहुत कुछ सिखाया, ना केवल डांस बल्कि और भी बहुत कुछ। इस बड़ी व्यक्तिगत क्षति के बारे में सोचकर मेरे दिमाग में बहुत सी यादें घूम रही हैं। उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदनाएं।

ये कहना गलत नही होगा कि माधुरी दीक्षित को स्टार बनाने के पीछे सरोज खान को बड़ी वजह माना जाता है। उन्होंने साल 1988 में रिलीज हुई माधुरी दीक्षित की फिल्म तेजाब के मशहूर गाने ‘एक दो तीन’ को कोरियोग्राफ किया था जिसके बाद माधुरी को पहचान मिली।

आइए आपको बताते हैं सरोज खान ऐज ये शख्शियत के पर्सनल लाइफ के बारे में..

सरोज खान ने तेरह साल की उम्र में इकतालीस साल के डांस मास्टर बी सोहनलाल से शादी की थी, उन्हें नहीं पता था कि वे पहले से शादीशुदा और दो बच्चों के पिता हैं. सोहनलाल ने अपनी असिस्टेंट निर्मला का नाम बदल कर सरोज रखा और उसके गले में काला धागा बांधते हुए कहा कि आज से मैं तुम्हारा पति हूं. उनकी यह शादी बस महज कुछ सालों तक चली. सरोज खान तीन बच्चों की मां बन गई. अपने पति से अलग हो कर वह फिल्मों में बैक ग्राउंड डांसर बन कर अपना और बच्चों का घर चलाने लगी या यूं कह लीजिए पेट पालने लगी।

सरोज खान जब छब्बीस साल की थीं जब उनकी मुलाकात सरदार रोशन खान से हुई थी. रोशन खान सरोज पर फिदा थे. उन्होंने यह बात भी सरोज से नहीं छिपाई कि वे पहले से शादीशुदा हैं. सरोज लंबे समय तक उनसे कन्नी काटती रही. रोशन खान सरोज खान को दिल से चाहते थे, अकसर उनके घर फूल और मिठाई ले कर आ जाते. सरोज ने उनसे कहा भी कि वे दोबारा किसी शादीशुदा आदमी के प्रेम में नहीं पड़ना चाहती।

अचानक एक दिन सरोज से मिलने एक औरत आई. सरोज से हंस कर बातें की, उसके बारे में जाना. यह भी पूछा कि वह अकेले अपने बच्चों को कैसे पाल रही हैं. फिर उस औरत ने सरोज को नसीहत दी कि उसे दोबारा शादी कर लेनी चाहिए. खासकर उस आदमी से जो उसे दिल ओ जान से चाहता है।

सरोज ने जब उसके बारे में जानना चाहा तो उसने बताया कि वह रोशन खान की बीवी है. इसके बाद सरोज रोशन खान को अलग नजर से देखने लगी. जब उन्हें पता लगा कि रोशन सिर्फ उन्हें ही नहीं, उनके तीनों बच्चों हामिद, हिना और सुखैना को भी अपनाना चाहते हैं।

आखिरकार सरोज ने 1975 में निकाह कर ही लिया और सरोज खान बन गई. उनके शौहर रोशन साहब ने उनकी हमेशा हौसला अफजाई की. सरोज ने कई बार अपने इंटरव्यू में कहा, ‘रोशन साहब से मिल कर लगा कि मेरी जिंदगी पूरी हो गई है. इसके बाद मैं जोर-शोर से अपना काम करने लगी, मुझे अपने काम में मजा आने लगा, मेरी तरक्की होने लगी. उन्होंने हमेशा मेरा साथ दिया.’ यही नहीं, सरोज खान की रोशन साहब की पहली बीवी से हमेशा दोस्ताना संबंध रहे।

Spread the love

Written by 

Related Posts

Leave a Comment

eighteen − five =

WhatsApp chat