नाना पाटेकर ने तनुश्री पर ठोका 25 करोड़ रुपये की मानहानि का मुकदमा तो दत्ता ने कहा पुलिस से लेकर सारा लीगल सिस्टम करप्ट…

तनुश्री दत्ता (Tanushree Dutta) पिछले साल उस वक्त लाइमलाइट में आ गई थीं, जब उन्होंने भारत में #MeToo की शुरुआत की थी. तनुश्री दत्ता ने बॉलीवुड के सीनियर एक्टर नाना पाटेकर (Nana Patekar) पर सेक्सुअल हैरेसमेंट के आरोप लगाए थे. इस मामले में मुंबई पुलिस ने केस क्लोजर की रिपोर्ट भी सब्मिट कर दी थी. रिपोर्ट में लिखा था कि सबूत न मिलने की वजह से नाना पाटेकर को बरी कर दिया जाना चाहिए. इस फैसले के बाद तनुश्री दत्ता ने बयान देते हुए कहा कि पुलिस से लेकर सारा लीगल सिस्टम करप्ट है, जो उससे भी ज्यादा करप्ट इंसान को बचा रहा है।

तनुश्री दत्ता एक बार फिर मुश्किलों में हैं. नाना के एनजीओ ‘नाम फाउंडेशन’ ने तनुश्री के खिलाफ 25 करोड़ रुपए का मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया है. इस दावे के बाद बॉम्बे हाईकोर्ट ने तनुश्री को प्रेस कॉन्फ्रेंस में नाना पाटेकर के ‘नाम फाउंडेशन’ के खिलाफ आरोप लगाने से रोक दिया है।


पिछले दिनों तनुश्री ने नाना के एनजीओ पर भ्रष्टाचार समेत दूसरे गंभीर आरोप लगाए थे, जिसके बाद एनजीओ ने उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया था. जस्टिस एके मेनन ने ‘नाम फाउंडेशन’ को राहत प्रदान की है. जानकारी के मुताबिक, कोर्ट में तनुश्री उपस्थित नहीं थीं. न ही उनके वकील समय से कोर्ट पहुंचे. बता दें, एक्ट्रेस तनुश्री दत्ता ने हैशटैग मीटू आंदोलन के तहत बॉलीवुड अभिनेता नाना पाटेकर के खिलाफ तथाकथित यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था, जिसमें मुंबई पुलिस की ओर से नाना को क्लीन चिट दे दिया गया था. तनुश्री ने इस फैसले का विरोध किया था और अपनी नाराजगी जताई थी।

Spread the love

Written by 

Related Posts

Leave a Comment

nineteen − ten =

WhatsApp chat