Politics & Crime Regional 

प्रधानों ने की ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता समिति बैठक योजना की राशि में घपलेबाजी – टाण्डा

अम्बेडकरनगर। ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता समिति बैठक योजना की राशि मे कई ग्राम पंचायत के ग्राम प्रधानों के द्वारा लाखों रुपए की घपलेबाजी किया जा रहा है लेकिन वहीं कार्य कर रही आशा बहू के ऊपर भी कार्यवाही की तलवार लटकने की आशंका जताई जा सकती है। स्वच्छता समिति के नाम से सरकारी खाते प्रधान और एएनएम से अटैच थे लेकिन इस वर्ष सरकार ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता समिति के खाते से एएनएम को हटाकर आशा बहुओं के साथ अटैच कर दिया गया अब खाते का संचालन आशा बहू और ग्राम प्रधान कर रहे हैं। आशा बहुओं को मूर्ख बनाकर ग्राम प्रधान खाते में आया सरकारी धन खूब लूट रहे हैं।

मार्च माह में आशा बहुओं के सरकारी खाते में नौ हजार नौ सौ रुपये की राशि शासन के तरफ से आई थी जिसमें भौतिक संसाधनों की बढ़ाना था। सरकार की मंशा भी यही थी कि जहां पर टीकाकरण सहित आशा बहुओं के द्वारा अन्य योजनाओं को लेकर जनता को जागरूक किया जाए वहां पर बैठने के लिए कुर्सी और मेज, पानी के लिए बाल्टी और मग जिस क्षेत्र में आशा बहुएं सरकार की योजनाओं को जनता तक पहुंचाती हैं उस क्षेत्र में ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव किया जाना था लेकिन ग्राम प्रधानों की मनमानी के आगे मामला सिर्फ बिल वाउचर तक ही सीमित रह गया सामान आज तक आशा बहुओं को नहीं मिल सका। प्रमाण के रूप में टांडा ब्लॉक के स्थानीय स्वास्थ्य उपकेंद्र केशवपुर में देखने को मिला जिसके अंतर्गत कुल आधा दर्जन से अधिक गांव सम्मिलित हैं इन सभी गांव के आशा बहुओं के सरकारी खाते में नौ हजार नौ सौ रुपये की राशि शासन के द्वारा बैंक खाते में भेजा गया था जिससे भौतिक संसाधन को बढ़ाया जा सके लेकिन ग्राम प्रधान की चालाकी में इस पैसे का आज तक पता नहीं लग पाया। आशा बहुओं के हाथ सिर्फ बिल बाउचर के दो कागज ही लग सके। जिसमें नौ हजार नौ सौ रुपये के खर्च के विवरण को दर्शाया गया है।

वही जानकारी में पता चला कि आशा बहुओं की नियुक्ति 2006 में हुई थी और तब से लेकर 2017 तक कि कार्यकाल में भौतिक संसाधन के लिए जो राशि हर वर्ष एएनएम के खाते के खाते में आती थी उसका भी कोई पता नहीं चल पाता था। लेकिन बिल बाउचर मजबूत देखा जाता था कुल मिलाकर यह कहां जा सकता है कि आठ वर्षों से सरकारी धन की घपलेबाजी किया जा रहा था लेकिन पोल तो तब खुलना शुरू हुई जब यह खाता आशा बहुओं के हाथ में सौंपा गया जो इन लुटेरों से अनभिज्ञ थी। केसवपुर उपकेंद्र अंतर्गत ग्राम पंचायत गुवांव,और कलेसर के आशा बहुओं के खाते में इसी वर्ष मार्च माह में पैसा निकाला गया था लेकिन आशा बहुओं के अनभिज्ञता के कारण पैसा प्रधान जी खा गए और आशा बहू के हाथ मे बिल बाउचर थमा दिए।

वही गौहनिया, उतरेथू,सेवागंज उपकेंद्र क्षेत्र में भी यही हाल है वहाँ भी सरकारी धन का लूट खूब हो रहा है ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता समिति बैठक योजना अंतर्गत आये हुए धन का पता यहां भी नही चल सका यहाँ भी इक्का दुक्का गाँव को छोड़ कर किसी भी गाँव मे कुर्शी मेज सहित अन्य भौतिक संसाधन की खरीदारी नही की गई है और प्रधानों के द्वारा पैसा खा लिया गया है। आशा बहुओं का कहना है कि पैसा प्रधान ले लिए है और पूछने पर प्रधान ने कहा कि कोई भी फोन करे तो हमारा नंबर दे दो जो होगा देख लिया जाएगा।

Cream
Spread the love

Written by 

Related Posts

Leave a Comment

1 × one =

WhatsApp chat