Dharma & Karma 

⚖तुला राशि के लोगों का थोड़े प्रयास से ही कार्य पूर्ण होंगे। आपकी राशियों की क्या है स्थिति! जानिए आचार्य जी की भविष्यवाणी से…

आचार्य रमेश चन्द्र तिवारी धानिवबांग नालासोपारा पालघर महाराष्ट्र 🌹🙏
सम्पर्क सूत्र – 9518782511
🙏🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🙏
🙏🌹🙏 अथ पंचांगम् 🙏🌹🙏
🙏ll जय श्री राधे ll*🙏
🙏🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🙏

दिनाँक -: 17/01/2020,शुक्रवार
सप्तमी, कृष्ण पक्ष
माघ
“”‘””””””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

तिथि ———सप्तमी 07:27:32 तक
तिथि ———अष्टमी 29:32:59
पक्ष —————————कृष्ण
नक्षत्र ———–चित्रा 25:11:48
योग ———–सुकर्मा 15:04:37
करण ————भाव 07:27:32
करण ———-बालव 18:27:41
करण ———कौलव 29:32:59
वार ————————-शुक्रवार
माह —————————–माघ
चन्द्र राशि ——कन्या 13:48:22
चन्द्र राशि ———————-तुला
सूर्य राशि ———————मकर
रितु ————————–शिशिर
आयन ——————–उत्तरायण
संवत्सर ———————-विकारी
संवत्सर (उत्तर) ———-परिधावी
विक्रम संवत —————-2076
विक्रम संवत (कर्तक)——2076
शाका संवत —————–1941

मुम्बई
सूर्योदय —————–07:16:01
सूर्यास्त —————–18:20:53
दिन काल —————11:04:51
रात्री काल ————-12:55:09
चंद्रास्त —————–12:21:29
चंद्रोदय —————–25:02:50

लग्न —-मकर 2°15′ , 272°15′

सूर्य नक्षत्र ————–उत्तराषाढा
चन्द्र नक्षत्र ——————–चित्रा
नक्षत्र पाया ——————–रजत

         🌹पद, चरण🌹

पे —-चित्रा 08:08:32

पो —-चित्रा 13:48:22

रा —-चित्रा 19:29:27

री —-चित्रा 25:11:48

रू —-स्वाति 30:55:28

          🌹ग्रह गोचर🌹

ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद

सूर्य=मकर 02°32 ‘ उ oषा o, 2 भो
चन्द्र = कन्या 26°23 ‘ चित्रा ‘ 1 पे
बुध = मकर 04°10 ‘ उoषाo’ 3 जा
शुक्र= कुम्भ 09°55, शतभिषा ‘ 1 गो
मंगल=वृश्चिक 15°40′ अनुराधा ‘ 4 ने
गुरु=धनु 16°30 ‘ पू oषाo , 1 भू
शनि=धनु 26°43′ उ oषा o ‘ 1 भे
राहू=मिथुन 13 °21 ‘ आर्द्रा , 3 ङ
केतु=धनु 13 ° 21′ पूo षाo, 1 भू

🌹शुभा$शुभ मुहूर्त🌹

राहू काल 11:10 – 12:29 अशुभ
यम घंटा 15:08 – 16:27 अशुभ
गुली काल 08:31 – 09:51 अशुभ
अभिजित 12:08 -12:50 शुभ
दूर मुहूर्त 09:19 – 10:01 अशुभ
दूर मुहूर्त 12:50 – 13:33 अशुभ

🌹चोघडिया, दिन
चर 07:12 – 08:31 शुभ
लाभ 08:31 – 09:51 शुभ
अमृत 09:51 – 11:10 शुभ
काल 11:10 – 12:29 अशुभ
शुभ 12:29 – 13:48 शुभ
रोग 13:48 – 15:08 अशुभ
उद्वेग 15:08 – 16:27 अशुभ
चर 16:27 – 17:46 शुभ

🌹चोघडिया, रात
रोग 17:46 – 19:27 अशुभ
काल 19:27 – 21:08 अशुभ
लाभ 21:08 – 22:48 शुभ
उद्वेग 22:48 – 24:29* अशुभ
शुभ 24:29* – 26:10* शुभ
अमृत 26:10* – 27:51* शुभ
चर 27:51* – 29:31* शुभ
रोग 29:31* – 31:12* अशुभ

नोट— दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है।
प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।
चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार ।
शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥
रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार ।
अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥
अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें ।
उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें ।
शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें ।
लाभ में व्यापार करें ।
रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें ।
काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है ।
अमृत में सभी शुभ कार्य करें ।

🌹दिशा शूल ज्ञान————-पश्चिम
परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा काजू खाके यात्रा कर सकते है l
इस मंत्र का उच्चारण करें-:
शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l
भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll

   🌹अग्नि वास ज्ञान🌹

यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,
चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।
दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,
नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।। महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्
नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।

   15 + 7 + 6 + 1 =  29 ÷ 4 = 1 शेष

पाताल लोक पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l

    🌹शिव वास एवं फल🌹

22 + 22 + 5 = 49 ÷ 7 = 0 शेष

शमशान वास = मृत्यु कारक

 🌹भद्रा वास एवं फल🌹

स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।
मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।

      🌹विशेष जानकारी 🌹
  • कालाष्टमी व्रत

*अष्टमीक्षय

  • गोसाई दास बाबा तिरोधान दिवस (वृन्दावन)

*श्री रामानन्दचार्य जयन्ती

    🌹शुभ विचार🌹

नाऽऽहारं चिन्तयेत्प्राज्ञो धर्ममेकं हि चिन्तयेत् ।
आहारो हि मनुष्याणां जन्मना सह जायते ।।
।।चा o नी o।।

एक विद्वान व्यक्ति ने अपने भोजन की चिंता नहीं करनी चाहिए. उसे सिर्फ अपने धर्म को निभाने की चिंता होनी चाहिए. हर व्यक्ति का भोजन पर जन्म से ही अधिकार है.

    🌹सुभाषितानि🌹

गीता -: श्रद्धात्रयविभागयोग अo-17

अनुद्वेगकरं वाक्यं सत्यं प्रियहितं च यत्‌।,
स्वाध्यायाभ्यसनं चैव वाङ्‍मयं तप उच्यते॥,

जो उद्वेग न करने वाला, प्रिय और हितकारक एवं यथार्थ भाषण है (मन और इन्द्रियों द्वारा जैसा अनुभव किया हो, ठीक वैसा ही कहने का नाम ‘यथार्थ भाषण’ है।,) तथा जो वेद-शास्त्रों के पठन का एवं परमेश्वर के नाम-जप का अभ्यास है- वही वाणी-सम्बन्धी तप कहा जाता है॥,15॥,

🌹व्रत पर्व विवरण🌹

🌹 विशेष – सप्तमी को ताड़ का फल खाने से रोग बढ़ता है तथा शरीर का नाश होता है (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

🌷 पौष्टिक गुणों से युक्त तिल की बर्फी 🌷
🍛 १ – १ कटोरी तिल व मूँगफली अलग – अलग सेंक लें व एक सूखा नारियल – गोला किस लें | ५०० ग्राम गुड़ की दो तार की चाशनी बनाकर इन सबकी बर्फी जमा लें |
💪🏻 स्वादिष्ट व पौष्टिक गुणों से युक्त यह बर्फी शीत ऋतु में बहुत लाभकारी है |

🌷 पुण्यदायी तिथियाँ 🌷
➡ २८ जनवरी : मंगलवारी चतुर्थी ( सुबह ८:२३ से २९ जनवरी सूर्योदय तक )
➡ ३० जनवरी : वसंत पंचमी ( इस दिन सारस्वत्य मंत्र का अधिक-से-अधिक जप करना चाहिए |)
➡ १ फरवरी : अचला सप्तमी (प्रात: पुन्यस्नान, व्रत करके गुरु-पूजन करनेवाला सम्पूर्ण माघ मास के स्नान का फल व वर्षभर के रविवार व्रत का पुण्य पा लेता है | यह सम्पूर्ण पापों को हरनेवाली व सुख-सौभाग्य की वृद्धि करनेवाली है |)
➡ ५ फरवरी : जया एकादशी (व्रत से ब्रह्महत्यातुल्य पाप व पिशाचत्व का नाश होता है |)
➡ ७ फरवरी : माघ शुक्ल त्रयोदशी [इस दिन से माघी पूर्णिमा (९ फरवरी) तक प्रात: पुण्यस्नान तथा दान, व्रत आदि पुण्यकर्म करने से सम्पूर्ण माघ-स्नान का फल मिलता है | – पद्म पुराण ]
➡ १३ फरवरी : विष्णुपदी संक्रांति (पुण्यकाल:सुबह ८-४१ से दोपहर ३-०५ तक )
➡ १४ फरवरी : मातृ-पितृ पूजन दिवस
➡ १९ फरवरी : विजया एकादशी (व्रत से इस लोक में विजयप्राप्ति होती है और परलोक भी अक्षय बना रहता है |)

🌷 ग्रहों दोष की शांति के लिए 🌷
🙏🏻 कुंडली में ग्रहों की अशुभ स्थिति हो तो दुर्भाग्य का सामना करना पड़ सकता है। किसी एक ग्रह की वजह से भी हमारे कार्यों में बाधाएं आ सकती हैं। यहां जानिए शिवजी के कुछ ऐसे उपाय,जिनसे ग्रहों के दोष दूर होते हैं और बाधाएं दूर हो सकती हैं।
▶ सूर्य से संबंधित दोष को दूर करने के लिए शिवलिंग पर पीले फूल अर्पित करना चाहिए ।
▶ चंद्र से संबंधित दोष दूर करने के लिए शिवलिंग पर दूध चढ़ाएं।
▶ मंगल दोष दूर करने के लिए शिवलिंग पर कुम -कुम और लाल पुष्प अर्पित करना चाहिए ।
▶ बुध संबंधित दोषों से मुक्ति के लिए शिवलिंग पर बिल्ली पत्र अर्पित करें ।
▶ गुरु के दोषों को दूर करने के लिए शिवलिंग पर चने की दाल और बेसन के लड्डू अर्पित करें।
▶ शुक्र के दोष दूर करने के लिए शिवलिंग पर हर रोज जल अर्पित करें ।
▶ शनि, राहु और केतु से संबंधित दोषों से मुक्ति के लिए शिवलिंग पर काले तिल अर्पित करना चाहिए

    🌹दैनिक राशिफल🌹

देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके।
नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।।
विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे।
जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।।

🐏मेष
नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। कोर्ट व कचहरी के काम निबटेंगे। धनलाभ सुगमता से होगा। प्रसन्नता एवं उत्साह बने रहेंगे। अज्ञात भय सताएगा। प्रतिद्वंद्वी शांत रहेंगे। मस्तिष्क पीड़ा हो सकती है। कार्य समय-समय पर बनते रहेंगे। प्रमाद न करें।

🐂वृष
कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें। जल्दबाजी भारी पड़ सकती है। घर-परिवार की चिंता रहेगी। क्रोध पर नियंत्रण रखें। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय होगी। संतुष्टि नहीं होगी। जोखिम न उठाएं।

👫मिथुन
चोट व रोग से बचें। वैवाहिक प्रस्ताव मिल सकता है। कानूनी बाधा दूर होगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। व्यस्तता रहेगी। आराम का समय नहीं मिलेगा। आशंका-कुशंका रहेगी। प्रयास करते रहें। अनुकूलता होती रहेगी। दुष्टजनों से दूरी बनाए रखें। लाभ होगा।

🦀कर्क
शत्रु पस्त होंगे। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। संपत्ति की खरीद-फरोख्त की योजना बनेगी। लाभ में वृद्धि होगी। प्रमाद से बचते हुए कोशिश करें। बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। पारिवारिक उन्नति होगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी।

🐅सिंह
आय के नए स्रोत प्राप्त हो सकते हैं। परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता प्राप्त होगी। अटके कार्यों में गति आएगी। यात्रा मनोरंजक रहेगी। मनपसंद भोजन का आनंद प्राप्त होगा। वरिष्ठजनों का सहयोग व मार्गदर्शन प्राप्त होगा। कल के काम आज ही निबटा लें।

🙎कन्या
बुरी सूचना मिल सकती है। चिंता तथा तनाव रहेंगे। विवाद को बढ़ावा न दें। परिवार में मतभेद हो सकता है। पुराना रोग उभर सकता है। लापरवाही न करें। काम में मन नहीं लगेगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय से संतोष नहीं होगा। धैर्य रखें।

⚖तुला
थोड़े प्रयास से ही कार्य पूर्ण होंगे। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। धनलाभ होगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। वाणी पर नियंत्रण रखें। जल्दबाजी न करें। कानूनी अड़चन आ सकती है। भागदौड़ अधिक होगी। शारीरिक कष्ट संभव है। समय बेहतर है। प्रसन्नता रहेगी।

🦂वृश्चिक
घर में अतिथियों का आगमन होगा। व्यय होगा। शुभ सूचना प्राप्त होगी। प्रसन्नता रहेगी। यात्रा सुखद रहेगी। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। धनहानि संभव है। व्यवसाय ठीक चलेगा। परिवार के सदस्य सहायता करेंगे। मतभेद समाप्त होंगे। लाभ होगा।

🏹धनु
भाग्योन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। रोजगार प्राप्त होगा। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। लॉटरी-सट्टे से दूर रहें। बेचैनी रहेगी। नेत्र पीड़ा हो सकती है। विरोध होगा। अपेक्षाकृत कार्य समय पर पूर्ण होने से प्रसन्नता में वृद्धि होगी।

🐊मकर
पुराना रोग उभर सकता है। अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। बनते कामों में विलंब होगा। बेवजह कहासुनी हो सकती है। शांति बनाए रखें। अपरिचित व्यक्तियों पर अतिविश्वास न करें। धोखा खा सकते हैं। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय कम रहेगी।

🍯कुंभ
स्वास्थ्य का ध्यान रखें। परिवार की आवश्यकताओं पर खर्च होगा। चिंता रहेगी। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। आय में वृद्धि होगी। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। उच्चाधिकारी प्रसन्न रहेंगे। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। जल्दबाजी से बचें।

🐟मीन
पूजा-पाठ में मन लगेगा। किसी साधु-संत से मुलाकात होगी। तत्काल लाभ नहीं मिलेगा। सामाजिक कार्यों में भाग लेने का अवसर मिल सकता है। मान-सम्मान बढ़ेगा। कार्यसिद्धि होगी। प्रसन्नता रहेगी। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा।

🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏

Spread the love

Written by 

Related posts

WhatsApp chat